विकास दुबे की गिरफ्तारी से पहले बदले गए थे महाकाल थाने के SHO और 8 पुलिस वाले

खबर सब तक पहुंचाएं

गैंगस्टर विकास दुबे की गुरुवार को गिरफ्तारी से पहले बुधवार को उज्जैन के 8 पुलिसकर्मियों का तबादला कर दिया गया था. इसमें महाकाल चौकी इंचार्ज और महाकाल पुलिस स्टेशन के SHO भी शामिल हैं.

दरअसल, विकास दुबे ने पहले उज्जैन पुलिस के सामने सरेंडर किया. इसके बाद एमपी पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. विकास को महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया. उसे महाकाल थाना पुलिस ने ही अरेस्ट किया.

बता दें कि विकास दुबे कानपुर गोलीकांड के बाद से फरार था. उसपर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोप है. यूपी पुलिस बीते 6 दिनों से उसकी तलाश कर रही थी. पुलिस ने जगह-जगह छापेमारी की. मंगलवार को उसके हरियाणा के फरीदाबाद में होने की जानकारी मिली. इसके बाद फरीदाबाद पुलिस ने होटल पर रेड की.

ये भी पढ़ें :  आखिर नकली नोट छापने के ब्लॉक और स्याही बीजेपी नेता को कहां से मिली?, जांच जारी

हालांकि पुलिस को सफलता नहीं मिली. उसके एक साथ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. कानपुर की घटना के बाद से पुलिस अलग-अलग मुठभेड़ में उसके तीन साथियों को भी ढेर कर चुकी है.

वहीं, गैंगस्टर विकास दुबे से आज पुलिस ने पूछताछ की. उसने बताया कि घटना के बाद घर के ठीक बगल में कुएं के पास पांच पुलिसवालों की लाशों को एक के ऊपर एक रखा गया था जिससे उनमें आग लगा कर सबूत नष्ट कर दिए जाएं. इस बीच विकास दुबे को यूपी एसटीएफ ने हिरासत में ले लिया है. एसटीएफ उसे लेकर कानपुर रवाना हो गई.

ये भी पढ़ें :  2019 में मोदी की राह मुश्किल, इंडिया टुडे के सर्वे में सबसे ज्यादा लोगों ने राहुल को विकल्प माना

खबर सब तक पहुंचाएं