भारत में कोरोना एंडेमिक स्टेज में पहुंचा- WHO

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) की चीफ साइंटिस्ट डॉ. सौम्या स्वामीनाथन के मुताबिक, भारत में कोविड-19 अब एंडेमिक स्टेज में पहुंचता जा रहा है. तकनीकी तौर पर एंडेमिक स्टेज का मतलब किसी महामारी का असर कम होने से होता है. इस अवस्था में वायरस भी कमजोर हो चुका होता है औप लोग भी बीमारी के साथ जीना सीख जाते हैं. भारत में दूसरी लहर के बाद कोरोना के मामले तेजी से कम हुए हैं.

एक इंटरव्यू के दौरान WHO की चीफ साइंटिस्ट ने कहा- भारत के आकार, आबादी और इम्युनिटी स्टेटस को देखते हुए ये कहा जा सकता है कि मामले कम-ज्यादा होते रहेंगे. इसलिए हमारा मानना है कि भारत एंडेमिक स्टेज पर पहुंच रहा है.

अब ये नहीं लगता कि कुछ महीने पहले जैसे हालात बने थे, वैसे अब हैं. हां, जिन इलाकों में पहली और दूसरी लहर के दौरान मामले कम थे या जहां संक्रमण का स्तर कम था, या फिर वैक्सीन कवरेज कम है- वहां आने वाले दिनों में मामले बढ़ सकते हैं.

सौम्या ने कहा- हम उम्मीद करते हैं कि 2022 के आखिर तक हम 70% आबादी को वैक्सीनेट कर चुके होंगे. बच्चों को कोविड से होने वाले खतरे पर उन्होंने कहा- पैरेंट्स को डरने की जरूरत नहीं है. उनमें हल्के लक्षण ही ज्यादा होंगे. अब तक वे इस बीमारी से कम ही प्रभावित हुए हैं और हमने जो सर्वे कराए हैं, उनमें भी यही बातें सामने आई हैं. बहुत कम बच्चों में इसके गंभीर लक्षण पाए गए हैं. लेकिन, इसके बावजूद हमें तैयारी पूरी रखनी चाहिए. अस्पतालों में सही इंतजाम होने चाहिए. हजारों की तादाद में बच्चों को आईसीयू में पहुंचाना पड़े, ऐसा नहीं होगा.

रेमडेसिविर, एचसीक्यू और आइवरमेक्टिन के इस्तेमाल पर पूछे गए सवाल के जवाब में सौम्या ने कहा- अब तक इस बात के सबूत नहीं मिले हैं कि एचसीक्यू या आइवरमेक्टिन के इस्तेमाल से मौतों की दर कम हुई. इसलिए इन दवाओं को रिकमंड करने के बारे में हमने अब तक कुछ नहीं कहा है, क्योंकि इसके लिए सही आधार मौजूद नहीं है. तीसरी लहर की आशंकाओं के बारे में उन्होंने कहा- इस बारे में कोई भविष्यवाणी नहीं की जा सकती.