क्या ये देश देशवासियों का नहीं रहा, सबकी भलाई के नाम पर जी भरकर लुटाई