अदालत में दो मांओं की बहस के बाद निर्भया के आरोपियों की मौत की तारीख तय, चुनाव प्रचार के बीच चढ़ेंगे फांसी

नई दिल्ली. दिल्ली में साल 2012 में हुए बहुचर्चित निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gang Rape Case) में दिल्ली  की पटियाला हाउस कोर्ट ने मंगलवार को चारों दोषियों का डेथ वॉरंट जारी कर दिया. चारों दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी दी जाएगी. कोर्ट के जज ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए चारों दोषियों से बात की. उसके बाद फैसला सुनाया. वहीं दोषियों के वकील ने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट में क्यूगरेटिव पिटिशन डालेंगे.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने इस फैसले का स्वाीगत किया है. उन्होंटने कहा कि यह फैसला, इस देश में रहने वाली सभी ‘निर्भया’ की जीत है. मैं निर्भया के माता-पिता को सलाम करता हूं, जिन्होंने 7 साल तक संघर्ष किया. हालांकि इन लोगों को सजा देने में 7 साल क्यों लगे? इस समय अवधि को कम क्यों नहीं किया जा सकता है?

फांसी की तैयारियों का ट्रायल हो चुका है

तिहाड़ जेल प्रवक्ता राजकुमार ने न्यूज़ 18 इंडिया को बताया कि उनकी तैयारिया पूरी हैं. फांसी के फंदे से लेकर सभी तैयारियों का ट्रायल किया जा चुका है. लेकिन, दोषियों के वजन का फिर ट्रायल होगा. जो भी प्रक्रिया होगी वो सब हो रही हैं. 22 जनवरी की सुबह के लिए उनकी तैयारिया पूरी हैं.

दोषी अक्षय ने जेल प्रशासन पर लगाए थे गंभीर आरोप

सुनवाई के दौरान दोषी अक्षय ने कहा कि उसे कुछ कहना है. कोर्ट की इजाजत के बाद अक्षय ने कहा कि हमारे बारे में गलत खबरें दी जा रही हैं. दोषी अक्षय ने जेल प्रशासन पर मीडिया में खबरें लीक करने का आरोप लगाया. जज दोषियों से बारी-बारी बातचीत कर रहे हैं. जज दोषियों से उनके वकील के बारे में पूछ रहे हैं. सुनवाई के दौरान केस से जुड़े लोगों को ही कोर्ट में रहने की इजाजत दी गई है. कोर्ट रूम से मीडिया को बाहर कर दिया गया है.

कोर्ट में लड़ पड़ीं दो मां

निर्भया गैंगरेप मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने मंगलवार को चारों दोषियों का डेथ वॉरंट जारी कर दिया गया. इससे पहले निर्भया की मां और दोषी मुकेश की मां के बीच बहस हुई. निर्भया की मां ने दोषियों को जल्द फांसी देने की मांग की. इस पर मुकेश की मां ने रोते हुए कहा कि मैं भी मां हूं, मेरी चिंताओं को देखा जाना चाहिए. इस पर निर्भया की मां ने रोते हुए कहा कि मैं भी एक मां हूं. इसके बाद जज ने दोनों को चुप रहने को कहा.

दोषी मुकेश की मां ने कोर्ट रूम में रोते हुए कहा कि जज साहब दया करो हम पर, मेरे लाल का क्या होगा. इसके बाद निर्भया की मां भी रोने लगीं. उन्होंने कहा कि मैं भी एक मां हूं. हम डेथ वारंट जारी करने के अदालत के फैसले का इंतजार कर रहे हैं. दोषियों की कोई अपील अब लंबित नहीं है.

इससे पहले सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों के वकीलों में तीखी बहस हुई. वकील एक दूसरे पर मामले को लटकाने का आरोप लगा रहे थे. इस दौरान जज को बीच बचाव करना पड़ा. जज ने कहा कि कोर्ट की व्यवस्था का ख्याल रखें, इस तरह माहौल का ना बिगाड़ें. क्या अब इस देरी को लेकर भी जांच की जाए?

Leave a Reply

Your email address will not be published.