अगस्ता केस : बिचौलिए क्रिश्चेन मिशेल ने कहा- मैंने किसी का नाम नहीं लिया है

एक चार्जशीट कोर्ट से पहले मीडिया को भेजी जाती है. उस चार्जशीट में दावा किया जाता है कि मोदी जी के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी घोटाले में शामिल हैं. कोर्ट फटकार लगाता है कि चार्जशीट लीक कैसे हुई. बाद में पता लगता है कि आरोपी ने ऐसा कोई दावा ही नहीं किया था. इस बीच में मोदी जी अपने भाषण में पॉलिटिक्स कर चुके होते हैं. राजनीति में अदालत को धोखा देकर फायदा उठाने का शायद इतिहास का ये पहला मामला है. लगता है मोदी जी ने इस मामले में भी इतिहास रच दिया है.

अगस्ता-वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय की ओर से क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ अनुपूरक आरोप दायर करने के एक दिन बाद, कथित बिचौलिए मिशेल ने शुक्रवार को दिल्ली की अदालत से कहा कि उसने जांच एजेंसी की पूछताछ में किसी का नाम नहीं लिया है. मिशेल ने यह भी आरोप लगाया कि केंद्र सरकार राजनीतिक एजेंडे के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है.

मिशेल के वकील ने दावा किया कि आरोप पत्र की प्रति मिशेल को देने से पहले मीडिया को दे दी गई. मिशेल की ओर से याचिका दायर करने वाले वकील अल्जो के जोसेफ ने दावा किया, ‘‘ उसने (मिशेल ने) किसी का नाम नहीं लिया.’ अपनी याचिका में मिशेल ने सवाल किया कि आरोप पत्र पर अदालत द्वारा संज्ञान लेने से पहले यह मीडिया को कैसे लीक हो गया. मामले पर छह अप्रैल को सुनवाई होगी.

गौरतलब है कि अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदा मामले में प्रवर्तन निदेशालय की ओर से गुरुवार को दाखिल चार्जशीट में अहमद पटेल और किसी ‘श्रीमती गांधी’ का जिक्र किया गया है. यह चार्जशीट इस डील के मुख्य आरोपी क्रिश्चेन मिशेल के खिलाफ दाखिल की गई है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बताया है कि पूछताछ के दौरान क्रिश्चेन मिशेल ने ‘एपी’ और ‘फैम’ का जिक्र किया है जिसका मतलब अहमद पटेल और फैम का मतलब फैमिली है. ईडी को जो डायरी मिली है उसमें एपी और फैम कोडवर्ड की तरह लिखे गए हैं.

52 पन्नों की चार्जशीट और उसके साथ 3 हजार पन्नों की पूरक चार्जशीट में तीन नए नाम भी सामने हैं जिसमें मिशेल का बिजनेस पार्टनर डिवेड सेम और दो कंपनियां हैं. चार्जशीट में आरोप लगाया गया है कि क्रिश्चेन मिशेल ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर दबाव डालने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का इस्तेमाल किया था.