अमेरिकी जनरल से आर्मी चीफ की मुलाकात, क्या है इसका गहरा अर्थ

अमेरिकी ऑपरेशन्स कमांड के कमांडर जनरल से भारत के आर्मी चीफ जनरल बीएस रावत ने मुलाकात करके अमेरिका की शिकायत की है. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक जनरल रेमंड थॉमस ने सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत से शुक्रवार को यहां मुलाकात की. जनरल रावत ने अमेरिकी जनरल से कहा कि पाकिस्तान सीमापार से आतंकवाद को बढ़ाने वाली हरकतें कर रहा है.

उन्होने कहा कि लगातार पाकिस्तान सीमापार से भारत के अंदर खासतौर पर जम्मू और कश्मीर में आतंकवाद को हवा देता रहता है.

अमेरिका का ये जनरल पुलवामा अटैक और बालाकोट में हुए हवाई हमले के बाद हालात का जायजा लेने भारत आया है.

इस पूरे घटनाक्रम में दो चीजें चौकाने वाली हैं. एक ये कि अमरिका किस हैसियत से भारत और पाकिस्तान के बीच के मामले में इतनी दंखलंदाजी कर रहा है. क्या अमेरिका संयुक्त राष्ट्र है या भारत जैसा एक और राष्ट्र है.  अमेरिका अगर विदेश मंत्री या भारत सरकार से हालचाल लेता तो ठीक था लेकिन भारतीय अधिकारियों से हालात पर जानकारी लेना संप्रभुता पर सवाल उठाने वाली बात है.

विशेषज्ञों के मुताबिक इस तरह विदेशी जनरल से भारत के जनरल का मुलाकात करना ठीक नहीं है इतना ही मामले में किसी से शिकायत करना भारत की कमज़ोरी को दिखाता है.

खुद पीएम मोदी इस प्रवृत्ति का मज़ाक उड़ाते रहे हैं उनका कहना रहा है कि अमेरिका के पास क्यों भागते हैं. अमेरिका हमारा आका है क्या.

रेमंड ने दोनों देशों के बीच प्रौद्योगिकी एवं सेना से सेना के बीच आदान-प्रदान के क्षेत्र में सैन्य सहयोग को और बढ़ाने की जरूरत पर जोर दिया. बयान में बताया गया, “दोनों जनरलों ने क्षेत्रीय सुरक्षा के माहौल को विकसित करने, वैश्विक आतंकवाद और पाकिस्तान की ओर से आतंकवाद को समर्थन जारी रखने जैसे मुद्दों पर चर्चा की.”

Leave a Reply