शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस में जाएंगे, रविशंकर प्रसाद भी दुखी

भाजपा ने अपने बागी सांसद शत्रुघ्न सिंहा का टिकट काट दिया है. उनकी जगह पार्टी ने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को पटना साहिब से चुनाव मैदान में उतारा है. शत्रुघ्न सिंहा भाजपा और मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ लगातार हमला कर रहे हैं. ऐसे में यह तय माना जा रहा था कि पार्टी उन्हें टिकट नहीं देगी. उधर रविशंकर प्रसाद अलग दुखी है क्योंकि ये मुसीबत वाली सीट उनको दे दी गई है.

बता दें कि इससे पहले एनडीए ने शनिवार को लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बिहार की 40 में से 39 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी थी. जिसमे भाजपा और जदयू 17-17 सीटों पर जबकि रामविलास पासवान की लोजपा छह सीट पर चुनाव लड़ेगी.

एनडीए के तीन दलों के बीच पहले ही ये समझौता हो चुका था. लोजपा ने अभी पांच उम्मीदवारों के ही नाम जारी किए हैं. खगड़िया से उम्मीदवार के नाम का एलान अभी नहीं किया गया है.

इससे पहले शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी नेतृत्व पर जोरदार हमला बोला. उन्होंने गांधीनगर लोकसभा सीट से लालकृष्ण आडवाणी की जगह अमित शाह को टिकट दिए जाने पर नाराजगी जताई. पीएम मोदी को सरजी कहकर संबोधित करने वाले शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि जिस तरह से बीजेपी ने लालकृष्ण आडवाणी को ‘विदाई’ दी है वो दर्दनाक और शर्मनाक है.

पटना साहिब से लोकसभा का टिकट नहीं मिलने के कुछ देर बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने कई ट्वीट किए. बता दें कि सिन्हा पटना साहिब से मौजूदा सांसद हैं. हालांकि उन्होंने टिकट नहीं दिए जाने को लेकर कुछ नहीं कहा, लेकिन लालकृष्ण आडवाणी के बहाने उन्होंने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा.

उन्होंने कहा कि सरजी, राफेल बाबा और चालीस चौकीदार बनने की बजाय ये सही मौका है कि कुछ सुधारात्मक उपाय (यदि आप अभी भी कर सकते हैं) करें.यह चिंताजनक, दर्दनाक है और कुछ लोगों के अनुसार, आपके लोगों ने जो भी किया है वह सबसे शर्मनाक है और अपेक्षित है.

शत्रुघ्न सिन्हा ने आगे कहा कि बीजेपी प्रमुख अमित शाह और पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के बीच कोई मुकाबला नहीं है. अमित शाह आडवाणी के टक्कर के हैं ही नहीं. बता दें कि आडवाणी गुजरात की गांधीनगर लोकसभा सीट से मौजूदा सांसद हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने जानबूझकर लालकृष्ण आडवाणी को हटा दिया है. वे पिछले पांच बार से गांधीनगर के सांसद रहे हैं. 

बीजेपी के इस स्वत्त्र विचार वाले नेता ने कहा कि आडवाणी और अमित शाह के बीच कोई मुकाबला नहीं है. यह जानबूझकर किया गया है और देश के लोगों के साथ अच्छा नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि जिस तरह से बीजेपी ने पार्टी के एक वरिष्ठ नेता को संभाला है, उसे कोई भी मंजूर नहीं कर सकता है.

उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को भी चेतावनी दी. बीजेपी सांसद ने कहा कि लोग देख रहे हैं और हर कार्रवाई की बराबर और विपरीत प्रतिक्रिया होती है. आडवाणी पिता समान हैं और कोई भी पिता समान शख्स के साथ इस तरह के व्यवहार को मंजूर नहीं कर सकता. आपने और आपके लोगों ने मेरे साथ जो किया है, वह सहनीय है. मैं आपके लोगों को उसी तरह से जवाब देने में सक्षम हूं. न्यूटन के तीसरे नियम को याद रखें. हर क्रिया की एक समान और विपरीत प्रतिक्रिया होती है और मैं जवाब देने में सक्षम हूं. बहरहाल, लोग इसे देख रहे हैं. यह सब वन मैन शो और दो लोगों की कंपनी द्वारा किया जा रहा है.

Leave a Reply