रेणुका चौधरी का पीएम को जवाब- मैं उनसे सीनियर सांसद हूं इसके साथ कही कई बड़ी बातें

रेणुका चौधरी का पीएम को जवाब- मैं उनसे सीनियर सांसद हूं इसके साथ कही कई बड़ी बातें

नई दिल्ली :  प्रधानमंत्री मोदी से सीनियर सांसद और पांच बार चुनाव जीतने वाली रेणुका चौधरी ने हंसी वाले मामले पर पीएम को करारा जवाब दिया है. रेणुका ने कहा कि हंसने के लिए उन्हें किसी की इजाजत की जरूरत नहीं है, इस पर कोई जीएसटी नहीं लगा है. रेणुका पणजी में “डिफिकल्ट डायलॉग्स’ कॉन्फ्रेंस में शिरकत करने गई थीं. बता दें कि 7 फरवरी को मोदी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के बजट अभिभाषण पर स्पीच दे रहे थे. इस दौरान रेणुका चौधरी तेज आवाज में हंसने लगीं. इसके बाद बीजेपी के नेता और खुद प्रधानमंत्री उनकी तुलना रामायण की एक राक्षसी से करके मज़ाक उड़ाने में लगे हैं.

रेणुका चौधरी ने कहा, “सोशल मीडिया पर मेरे खिलाफ अभियान चलाए जा रहे हैं. ट्विट पर #Laugh like Surpankha, #Lol is a passe और #Laugh Like Renuka Chowdhury जैसी चीजें लिखी जा रही हैं. मैं 5 बार की सांसद हूं. प्रधानमंत्री मेरी एक निगेटिव कैरेक्टर से तुलना कर रहे हैं. लेकिन, वे भूल गए हैं कि आज महिलाएं बदल गई हैं और वे जानती हैं कि अपने लिए किस तरह आवाज उठानी है. मोदी की टिप्पणी महिलाओं के प्रति उनकी मानसिकता दिखाती है.”

रेणुका बोलीं, “सामाजिक जीवन में हमेशा से ही लोगों का समर्थन मेरा आधार रहा है. अगर आप सही हैं तो ये हर जगह दिखाई देता है. और, यही अभी हो रहा है.. इस पर कोई नियम नहीं है कि कब और कैसे. आप हंसते हैं और इस पर कोई जीएसटी नहीं लगता. 5 बार सांसद रहने के बाद मुझे हंसने के लिए किसी की परमिशन की जरूरत नहीं है. मैंने रुढिवादी होने का मिथक तोड़ा है.”

रेणुका ने कहा कि उनकी हंसी हमेशा से ही स्वाभाविक रही है, लेकिन अब वे इसको लेकर सजग हो गई हैं.

“मैंने अपनी हंसी से अथॉरिटी को चुनौती दी है. पार्लियामेंट कानून बनाती है, लेकिन सांसदों को शिक्षित किए जाने की जरूरत है कि वे महिलाओं से किस तरह व्यवहार करें. अधिकारों के मामले में वे सभी के समान हैं. संसद हमारे समाज का आईना होती है. मैंने बरसों पहले अपने पिता की अंतिम क्रिया करके चुनौती पेश की थी. मेरे पिता ने मुझे भारत के नागरिक के तौर पर बड़ा किया, लड़की या लड़के के तौर पर नहीं.”

 

इस पर मोदी ने कहा, “सभापति जी आपसे मेरी विनती है कि रेणुका जी को कुछ मत कहिए. रामायण सीरियल के बाद ऐसी हंसी सुनने का सौभाग्य आज मिला है.” इसके बाद सदन में सभी सदस्य रेणुका चौधरी से भी ज्यादा ज़ोर से हंसने लगे.

 

राज्यसभा में पीएम के बयान के अगले दिन केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने रामायण सीरियल की “शूर्पणखा’ के हंसने वाला वीडियो शेयर किया और वीडियो को मोदी के रेणुका पर दिए बयान की खबर से लिंक किया.

विपक्ष की महिला सांसदों ने मोदी के बयान और रिजिजू के वीडियो शेयर करने को महिलाओं का अपमान बताया. हंगामे के कारण शून्यकाल नहीं हुआ. महिला सांसद बाद में राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू से मिलीं और प्रधानमंत्री से माफी की मांग की.

रेणुका चौधरी ने कहा था, “पीएम से और क्या उम्मीद कर सकते हैं. यह अत्यंत आपत्तिजनक है. रिजिजू ने जो वीडियो पोस्ट किया वह शर्मनाक है. ये लोग बेटी बचाओ और महिलाओं के सम्मान की बड़ी-बड़ी बातें करते हैं. मैं दो बेटियों की मां हूं. पत्नी हूं. और ये तरीका है सम्मान का?”

रिजिजू ने वीडियो पर कहा, “मैंने कोई टिप्पणी नहीं की. मैंने रेणुका जी के बारे में कुछ नहीं कहा. मैंने तो सिर्फ यही कहा कि प्रधानमंत्री ने किस तरह संयम बरता है.”