संजय सिंह ने एक पैराग्राफ लिखकर अमर उजाला को हिला दिया, हटानी पड़ी खबर

संजय सिंह ने एक पैराग्राफ लिखकर अमर उजाला को हिला दिया, हटानी पड़ी खबर

नई दिल्ली: अप कल्पना कर सकते है कि किसी एक नेता के एक पैराग्राफ लिखने से कोई अखबार ठिठक जाए और तुरंत अपनी गलती सुधार ले. यही हुआ है और अमर उजाला जैसे बडे अखबार को आप नेता संजय सिंह ने पानी पानी कर दिया. हुआ ये कि अमर उजाला के डिजिटल वेंचर ने एक खबर छाप दी. खबर का कोई आधार तो था नहीं बस कपिल मिश्रा के आरोप को ये अखबार ले उड़ा. अमर उजाला ने लिखा कि दिन का एक रुपये कमाने वाले संजय सिंह 37 विदेश यात्राएं कर चुके हैं.

 

आजकल पत्रकार छपाई केन्द्रों में डिग्रियां बेचकर जो पत्रकार पैदा किए जा रहे हैं उनकी पत्रकारिता में समझ भी उतनी ही होती है . अमर उजाला ने अपनी स्टोरी की हेडिंग दी थी- ‘दिन का एक रुपये से भी कम कमाते हैं ये लेकिन कर चुके हैं 37 विदेश यात्राएं’. इस खबर में अमर उजाला ने लिखा था- आम आदमी पार्टी में राज्यसभा सांसद की उम्मीदवारी के लिए रार मची हुई थी और फिर जिस तरह से इस रार को अंजाम तक पहुंचाया गया उसने कई विवादों को हवा दे दी.

 

लेकिन इस सबसे इतर आज हम बात करेंगे संजय सिंह की. संजय सिंह ने राज्यसभा में अपना नामांकन दाखिल करते हुए वित्त वर्ष 2016-17 में 224 रुपए की कुल आय की घोषणा की है लेकिन वहीं रिपोर्ट के मुताबिक वो पिछले डेढ़ साल में यूरोप, अमेरिका, रशिया समेत कई देशों की की करीब 37 यात्राएं कर चुकें हैं.’

इसके बाद ट्विटर पर संजय सिंह के लिखे एक पैराग्राफ से अमरउजाला के दफ्तर में सरसराहट फैल गई और खुसुर पुसुर शुरू  हो गई. ट्विटर पर खबर का खंडन करते हुए संजय सिंह ने लिखा, ‘अमर उजाला जैसा प्रतिष्ठित अखबार ऐसी झूठी खबर छाप सकता है, मुझे आश्चर्य है मैं आज पासपोर्ट की डिटेल सम्पादक को भेजूंगा अगर ज़रा भी नैतिकता हो तो माफ़ी मांग लेना मुझसे नही अपने पाठकों से’.

संजय सिंह के इस ट्वीट के बाद शायद अमर उजाला को जबरदस्त झटका लगा. खबर हवा हवाई थी इसलिए सिंह को जवाब तक नहीं दे सका. हां उसने तुरंत ही यह खबर हटा ली.