अरुण जेटली के नाम की स्पैलिंग गलत लिखना भी बना गुनाह, राहुल पर मामला

अरुण जेटली के नाम की स्पैलिंग गलत लिखना भी बना गुनाह, राहुल पर मामला

नई दिल्ली : आप पप्पू कहें. इटली की महारानी कहें. नेहरू को अय्याश कहें सब चलेगा. लेकिन राहुल गांधी के ने अरुण जेटली के नाम की स्पैलिंग क्या गलत लिख दी. उनके खिलाफ बड़े एक्शन की तैयारी शुरू हो गई है. उनके खिलाफ बाकायदा राज्यसभा में विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया गया . उस नोटिस को उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के पास विचार करने के लिए भेज दिया है.

राज्यसभा सचिवालय के सूत्रों के अनुसार नायडू ने भाजपा सदस्य भूपेंद्र यादव के राहुल के खिलाफ विशेषाधिकार हनन नोटिस को आगे विचार के लिए महाजन के पास भेजा है. नायडू ने नोटिस में आधार बनाए गए राहुल के एक ट्वीट को प्रथमदृष्टया विशेषाधिकार हनन के मामले के दायरे में मानते हुए आगे की कार्रवाई के लिए लोकसभा अध्यक्ष के पास भेजा है.

उल्लेखनीय है कि राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली के बारे में एक ट्वीट किया था जिसे यादव ने अपमानजनक बताते हुए गत 28 दिसंबर को राज्यसभा में गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस पेश किया था. शुक्रवार को संसद के शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन सदन में यह मुद्दा उठा भी था.

यादव ने सदन में कार्यवाही के दौरान सदस्यों के आचरण और प्रक्रिया संबंधी के नियम 187 के तहत इस मुद्दे पर विशेषाधिकार का मामला उठाया था. यादव ने नोटिस में कहा कि 28 दिसंबर को किया गया राहुल गांधी का ट्वीट बेहद अपमानजनक है और इसमें राज्यसभा की कार्यवाही को लेकर जानबूझकर भ्रम भी पैदा किया गया है.

राहुल ने अपने ट्वीट में जेटली के लिखा था कि डियर मिस्टर Jaitlie- देश को यह याद दिलाने के लिए धन्यवाद कि प्रधानमंत्री जो कहते हैं, उसका अर्थ वह नहीं होता और जो अर्थ होता है, उसे वह कहते हैं.’