क्या बीजेपी के साथ केजरीवाल ने सेटिंग कर ली है ? जानिए क्या हैं चार बड़ी वजहें

क्या बीजेपी के साथ केजरीवाल ने सेटिंग कर ली है ? जानिए क्या हैं चार बड़ी वजहें

आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल का वित्तमंत्री अरुण जेटली के साथ मुदित रूप कल से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. सीएम केजरीवाल की मुद्राओं से साफ दिखाई दे रहा है कि वो अरुण जेटली के साथ मिलकर बेहद खुश हैं. जेटली भी प्रसन्न मुद्रा में दिखाई दे रहे हैं. मतलब साफ है कि दोनों के बीच संबंधों में सुधार हुआ है. इससे पहले दोनों का जब आमना समना हुआ था तो एक दूसरे से बात करने की जगह दोनों आगे बढ़ गए थे. इतना ही नहीं गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल नितिन गडकरी से भी मिले. केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के साथ उन्होंने यमुना सफाई अभियान पर चर्चा की.

 

दर असल वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ केजरीवाल एक डिनर पार्टी में दिखे. ये डिनर पार्टी जीएसटी काउंसिल की तरफ से आयोजित थी. दोनों ही नेताओं से अरविंद केजरीवाल काफी गर्मजोशी से मिले. इस मुलाकात की तस्वीरें भी सामने आईं. तस्वीरें सामने आते ही ये सोशल मीडिया में वायरल होने लगीं. लोग इन तस्वीरों के जरिये अरविंद केजरीवाल के मजे ले रहे हैं. बीजेपी नेताओं से केजरीवाल की मुलाकात पर लोग लिख रहे हैं कि बदले-बदले से सरकार नजर आते हैं. जीएसटी काउंसिल मे केजरीवाल का जाना भी अहम है क्योंकि आम तौर पर इस बैठक में डिप्सी सीएम मनीष सिसोदिया ही जाया करते थे लेकिन इस बार केजरीवाल गये . जबकि इस बैठक में वित्तमंत्री ही जाते है.

आपको बता दें कि अरविंद केजरीवाल का इन दोनों ही नेताओं के साथ कानूनी विवाद चल रहा है. जहां नितिन गडकरी ने उनपर मानहानि का मुकदमा किया था वहीं अरुण जेटली पर डीडीसीए में घोटाले को लेकर अरविंद केजरीवाल ने केस फाइल किया हुआ है. इतनी कानूनी तल्खी के बाद जब केजरीवाल की इन दोनों से मुलाकात हुई तो ट्विटर यूजर्स ने मजे लेने शुरू कर दिये.

सिसोदिया ने करवाई दोस्ती ?

इससे पहले भी केजरीवाल के बीजेपी नेताओं के साथ मधुर संबंधों के संकेत मिलते रहे हैं. माना जा रहा है कि मनीष सिसोदिया ने बीजेपी के साथ केजरीवाल के दोस्ताने की इबारत लिखी है. जीएसटी ड्राफ्टिंग के समय सिसोदिया ने जमकर जेटली को मस्का लगाया तो जेटली भी सिसोदिया की शान में कसीदे पढ़ते दिखे.

दोस्ती के संकेत पहले से 

हाल में जब केजरीवाल के दो अहम विधेयकों को एलजी अनिल बैजल ने मंजूरी थी तो पक्का हो गया था कि केजरीवाल की बीजेपी से सेटिंग हो गई है. बैजल ने डोर स्टेप डिलीवरी ऑफ सर्विसेज और प्राइवेट अस्पतालों में सरकारी खर्चे से गरीबों का इलाज कराने के बिल मंजूर किए थे.

जेटली की  सिफारिश पर गुप्ता को टिकट ?

कुछ लोग मानते हैं कि केजरीवाल ने अरुण जेटली के कहने पर एनडी गुप्ता को आप से राज्यसभा का टिकट दिया. एनडी गुप्ता और उनके बेटे बीजेपी से लंबे समय से जुड़े हुए हैं और दोनों अरुण जेटली के नज़दीक माने जाते हैं.

जो भी हो केजरीवाल को बीजेपी के लिए चुनौती के रूप में देखने वालों के लिए ये झटका है.