यहां से बदले जाने थे पकड़े गए सैकड़ों करोड़ के पुराने नोट? मोदी सरकार की बड़ी गलती

यहां से बदले जाने थे पकड़े गए सैकड़ों करोड़ के पुराने नोट? मोदी सरकार की बड़ी गलती

 

देश भर में एक के बाद एक कई से एक्सचेंज करने वाले लोग पकड़े जा रहे है जो पुराने नोटों को नये नोटों में बदलने का दावा कर रहे हैं. हाल में बड़ी संख्या में ऐसे नोट पकड़े गए हैं.  अपको याद होगा कि कल ही अलीगढ़ के बन्नादेवी इलाके में पुलिस ने एक होटल में छापा मारकर 50 लाख की पुरानी करेंसी के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें वो मसाला कारोबारी भी है, जिसकी ये रकम थी। परिचित प्रॉपर्टी डीलर से उसने पांच लाख के कमीशन पर डील की थी

  • इससे पहले कानपुर में भी 96 करोड़ 62 लाख के 500 व 1 हजार के नोट मिले हैं। इस रकम को गिनने में मशीनों की मदद से भी दो दिन लग गए.
  • कानपुर में नोटों की खेप पकड़े जाने के पहले मेरठ में बिल्डर के पास से 25 करोड़ के पुराने नोट मिले थे.
  • इन तीनों मामलों में लोग पुराने 500 और एक हज़ार रुपये के नोट लेकर बदले में नये नोट मुहैया करा रहे थे.

देश में पुराने नोट लेना आरबीआई बंद कर चुका है. पुराने नोट रखना भी गुनाह है. एक हद से ज्यादा पुराने नोट रखने पर जेल भी हो सकती है. इसके बावजूद लोग पुरान नोट एक्सचेंट करने के काम में लगे हैं. जांच एजेंसियां हैरान हैं कि ये नोट लेकर मनी एक्सचेंजर उनका करते क्या थे ?

नॉकिंग न्यूज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के अनुसार अभी भी पुराने नोट बदलने की एक बडी उम्मीद बाकी है और इसके पीछे वित्त मंत्रालय की एक मामूली सी गलती है. पुराने नोटों को बदलने के नेपाल के बैंकों और नेपाल सरकार से होने जा रहे समझौते को लगातार टाला जा रहा है. नोटबंदी को सालभर से ज्यादा हो गया है लेकिन अब तक नेपाल में चल रहे नोट बदलने पर कोई ठोस फैसला नहीं हुआ है. इसी तनाव को बीच यही कारण था कि नेपाल सरकार ने भारत के नये 2000 और 500 के नोटों को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था. अभी तक ये भी तय नहीं हुआ है कि नेपाली मार्केट से कितने रुपये रिजर्व बैंक के पास आने हैं. जाहिर बात है जब भी ये रकम आएगी तब वो सारी करंसी रिजर्व बैंक को लेनी होगी जो नेपाल देगा . यही कारण है कि नेपाल के बाज़ार में अभी भी भारतीय रुपये बेधड़क चल रहे हैं. खास तौर पर नेपाल के कैसिनो आराम से ये रकम मामूली कट के साथ ले रहे हैं.

नोट बदलने के लिए नेपाल में किसी एजेंट को ढूंढने की ज़रूरत नहीं है. नेपाल के कसीनो में अभी 500 और 1000 के पुराने नोटों का इस्तेमाल किया जा रहा है. भारतीय पर्यटक नेपाल के कसीनो में इन नोटों के साथ जाते हैं. वहां 500 का नया नोट देने पर 800 नेपाली नोट और 500 का पुराना नोट देने पर 400 नेपाली नोट मिल जाते हैं. कसीनो और डांस बार में पुरानी भारतीय करंसी को आसानी से बदला जा सकता है. कठमांडू में ही दो हजार से ज्यादा वैध और अवैध डांस बार्स चलते हैं. भारत में नोटबंदी हुए एक साल से भी अधिक का समय बीत चुका है लेकिन नेपाल में अभी तक भारतीय करंसी को वापस लौटाने की प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है. भारत और नेपाल के सबसे बड़े बैंकों, नेपाल राष्ट्र बैंक और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अभी तक पुरानी भारतीय करंसी को बदलने के तरीके पर कोई फैसला नहीं किया है.

हालांकि, नेपाल में इन नोटों को तभी बदला जा सकता है जब इनके बदले कोई काठमांडू के कसीनो में बड़ी रकम लगाए. पुराने भारतीय नोटों से कसीनो के टोकन खरीदे जा सकते हैं. इन टोकन से व्यक्ति पर्यटक कसीनो में खेलकर नेपाली करंसी कमा सकता है. यह प्रक्रिया अपने-आप में वैध है.

इस पूरी जानकारी से सवाल यह उठता है कि ये कसीनो पुरानी भारतीय करंसी का आखिर क्या करेंगे? एक कसीनो के मालिक ने बताया कि भारत सरकार ने नेपाल से भारतीय करंसी वापस नहीं ली है. जब भारत यह नोट मांगेगा तो कसीनो के पास जमा रकम भी नेपाल भारत को वापस कर देगा. इससे नेपाल के प्राइवेट बैंक खूब पैसा कमाएंगे.

भारतीय रिजर्व बैंक के मुताबिक अवैध किए नोटों में से 15.28 लाख करोड़ की कीमत के नोट्स वापस आ चुके हैं. इसमें नेपाल में चल रहे नोट्स शामिल हैं या नहीं, इस बात का पता लगना अभी बाकी है.