कुमार विश्वास घर का भेदी और गद्दार है कैसे राज्य सभा भेज देते : गोपाल राय

कुमार विश्वास घर का भेदी और गद्दार है कैसे राज्य सभा भेज देते : गोपाल राय

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी के दिल्ली प्रदेश के संयोजक गोपाल राय ने आरोप लगाया है कि कुमार विश्वास हमेशा पार्टी तोड़ने की कोशिश मे लगे रहे. उन्होंने कहा कि जिस कुमार विश्वास ने दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार को गिराने के लिए विधायकों को तोड़ने की कोशिश की क्या उन्हें राज्यसभा भेजा जा सकता है?

गोपाल राय ने कहा कि निगम चुनाव के नतीजे आने के बाद दिल्ली की सरकार को गिराने का और विधायकों को तोड़ने का षड्यंत्र किया गया उसके केंद्र में कुमार विश्वास थे. इतना ही नहीं कुमार विश्वास कपिल मिश्रा के साथ मिलकर पार्टी तोड़ने में लगे हुए थे.

गोपाल राय ने अपनी ही पार्टी के नेता कुमार विश्वास पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली के नगर निगम चुनाव के बाद से षड्यंत्र से पार्टी को दिल्ली में खत्म करने की कोशिश की गई. दिल्ली के नगर निगम चुनाव के दौरान ही भाजपा ने हमारे एक विधायक वेद प्रकाश को खरीद लिया था ताकि वह भाई विधायकों को खरीदकर हमारी सरकार हिला सके. उसी नगर निगम चुनाव के दौरान कुमार विश्वास जी ने एक वीडियो भी जारी किया. उस वीडियो में अरविंद केजरीवाल पर हमला किया गया था उस वीडियो का मकसद था कि चुनाव में आम आदमी पार्टी को प्रभावित   किया जा सके.

कार्यकर्ता और समर्थकों के दौरान Facebook चैट के इस सत्र में गोपाल राय ने अमानतुल्लाह खान और कपिल मिश्रा को उस एपिसोड का जिक्र करते हुए भी कहा कि इस दौरान अधिकतर बैठकें विधायकों की कुमार विश्वास  के घर पर होती थी और कपिल मिश्रा उसके नायक थे. लेकिन जब इस बात का खुलासा हुआ तो कपिल मिश्रा को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया.

गोपाल राय का आरोप है कि कुमार विश्वास ने हर मंच का इस्तेमाल अपनी ही पार्टी और अपनी ही पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल के खिलाफ बोलने में इस्तेमाल किया.

कुमार विश्वास को टिकट न दिए जाने की वजह से उनके समर्थक सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए पार्टी आलाकमान से लगातार सवाल जवाब कर रहे थे. आम आदमी पार्टी ने आज गोपाल राय को आगे किया जो सोशल मीडिया पर चर्चा के दौरान सामने आए और विश्वास पर हमले करते हुए सीधा सवाल उठा दिया कि जो आम आदमी पार्टी की सरकार को गिराने के लिए पूरे विधायकों को तोड़ने के षड्यंत्र में शामिल हो जो हर सार्वजनिक मंच का उपयोग पार्टी के खिलाफ बोलने के लिए इस्तेमाल करता हो क्या उसे राज्यसभा में भेजा जा सकता है? गोपास राय ने कह दिया कि मुझे लगता है कि कहीं नहीं भेजना चाहिए और पार्टी ने जो फैसला किया वह सही किया है.