मोदी अक्सर करते रहे हैं ‘नीच’ शब्द का इस्तेमाल, सामने आया पुराना ट्वीट

मोदी अक्सर करते रहे हैं ‘नीच’ शब्द का इस्तेमाल, सामने आया पुराना ट्वीट

नई दिल्ली : आप जो लिखते हैं वो पत्थर की लकीर बन जाता है. आप अपने लिखे की गवाही से बच नहीं सकते. ये हमेशा के लिए दर्ज हो जाता है. जब मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी को नीच कहा तो उनकी पार्टी ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया. यहां तक कि खुद मोदी ने इसे चुनाव में भुनाने की कोशिश की. लेकिन कोई सोच नहीं सकता था कि इस मामले में खुद मोदी की कलम उनके खिलाफ गवाही देगी. पुराना रिकॉर्ड कहता है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खुद नीच शब्द का इस्तेमाल कर चुके हैं. वह भी कांग्रेस पार्टी के लिए.

2014 में खुद ‘नीच’ शब्द का इस्तेमाल करते हुए लिखा था कि,”हमारे जवानों का सिर काट दिया जाता है और जवान की पत्नी को धरने पर करना पड़ता है, फिर भी आप पाकिस्तान के नेताओं को खिलाते हो. यह ‘नीच’ राजनीति है.”

अभी पूर्व कांग्रेसी नेता के बयान को आधार बनाकर बीजेपी ने कांग्रेस के खिलाफ गुजरात चुनावी मुद्दा बना दिया, जिससे कांग्रेस को बचाव की स्थिति में आना पड़ा. लेकिन अब ये ट्वीट वायरल हो रहा है. जाहिर बात है इसका जवाब देना मोदी के लिए मुश्किल नही होगा.

जो नेता अपने बयान से ना पलटे वो नेता ही क्या ! 2014 में पीएम मोदी ने कांग्रेस नेताओं के ऊपर पाकिस्तान के नेताओं को खाना खिलाने का आरोप लगाया था.

पर अगले ही साल 2015 में उन्होंने पाकिस्तान का दौरा किया. पीएम मोदी कांग्रेस से दो कदम आगे बढते हुए अपने पाकिस्तानी समकक्ष प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को जन्मदिन की मुबारकबाद देने लाहौर पहुंच गए थे.

हालाँकि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने मणिशंकर अय्यर के बयान के चलते बढ़े विवाद के बाद ट्वीट कर बताया कि “कांग्रेस की अलग संस्कृति और विरासत है. मैं मणिशंकर अय्यर द्वारा पीएम के लिए इस्तेमाल की गई भाषा की निंदा करता हूँ. कांग्रेस और मुझे लगता है कि मणिशंकर ने जो भी कहा उन्हें अपने बयान के लिए माफ़ी मांगनी चाहिए.”