नशा पीकर रोज़ दस लड़कियों को भोगता था वो, ये था बाबा का खौफनाक तरीका

नशा पीकर रोज़ दस लड़कियों को भोगता था वो, ये था बाबा का खौफनाक तरीका

नई दिल्ली : दिल्ली से एक और हवस के पुजारी बाबा का पर्दाफाश हुआ है. एक और ढोंगी बाबा की पोल खुल गई है. रोहिणी के विजय विहार इलाके में आध्यात्मिक विश्वविद्यालय के नाम से आश्रम चलाने वाला वीरेंद्र देव दीक्षित ने खुद को कृष्ण घोषित कर रखा था. उसका सपना 16000 लड़कियां रखने का था. हाईकोर्ट में वीरेंद्र देव दीक्षित के खिलाफ अर्जी लगाने वाली सीमा शर्मा का आरोप है कि बाबा ड्रग्स लेकर रोज 10 लड़कियों के साथ रेप करता था. उसे न्यूड लड़कियों से मालिश कराने का शौक था. वहीं मीडिया रिपोर्ट्स में भी खुलासा हुआ है.

ढोंगी बाबा के खिलाफ याचिका दायर करने वाली राजस्थान की महिला उसके आश्रम में अनुयायी बनकर रह चुकी है. उसने अपनी चारों बेटियों को बाबा की भक्ति में उसके आश्रम में ही छोड़ा था, जिसमें एक नाबालिग है. उसने अपनी मां को बताया कि बाबा ने उसके साथ भी रेप किया. महिला और उसके पति ने बाबा पर रेप का केस दर्ज कराया है.

महिला की याचिका पर आध्यात्मिक विश्वविद्यालय पर छापेमारी के बाद बाबा के सारे दुष्कर्मों से पर्दा उठ गया. बाबा पर रेप सहित कई धाराओं में 11 मामले दर्ज किए गए हैं. पुलिस इन सभी की जांच कर रही है. इसमें पीड़ितों ने कृष्ण अवतार का ढकोसला समेत सारी बातें बताई हैं.

पीड़िताओं ने जो आपबीतियां सुनाई हैं उसके अनुसार यह बाबा हमेशा महिला शिष्यों के बीच ही रहना पसंद करता था. वह गोपियां बनाने के लिए लड़कियों को संबंध बनाने के लिए आकर्षित करता था. हाईकोर्ट के निर्देश पर आश्रम की जांच करने पहुंची महिला आयोग और पुलिस की टीम को कुछ वीडियो मिले, जिससे बाबा की काली करतूतों का खुलासा हुआ है.

पुलिस ने आश्रम से कई लड़कियों को सुरक्षित निकालते हुए दो लोगों को हिरासत में लिया है. आश्रम पर महिलाओं को बंधक बना यौन शोषण के आरोप के बाद एक एनजीओ ने कोर्ट में गुहार लगाई थी. कोर्ट ने इसे गंभीर बताते हुए मंगलवार को महिला आयोग से जांच का आदेश दिया था.

कार्रवाई के बाद टीम ने बुधवार को हाईकोर्ट को रिपोर्ट सौंपी . कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर ने कहा कि यह मामला राम-रहीम जैसा हो सकता है. सीबीआई जांच होनी चाहिए. कोर्ट ने सीबीआई को आश्रम में छापा मारने के निर्देश दिए हैं.