बिल्डर ने गुस्से में बंद किया बिजली, पानी और लिफ्ट, 18वीं मंजिल पर फंसे लोग

बिल्डर ने गुस्से में बंद किया बिजली, पानी और लिफ्ट, 18वीं मंजिल पर फंसे लोग

नई दिल्ली: दिल्ली एनसीआर में बिल्डर फ्लैट खरीदना मतलब गुलामी के दस्तावेज पर दस्तखत करक देना. आप जैसे ही मकान के मालिक बनते हैं आपकी मुसीबतें शुरू हो जाती हैं. ईएमआई का बोझ तो चलता ही रहता है दूसरी परेशानियां भी खड़ी हो जाती हैं.

नोएडा एक्सटेंशन की लॉ रेजिडेंसी के टावर नंबर 15 के बाशिदों का बिजली-पानी ही बिल्डर ने बंद कर दिया.  नतीजा ये हुआ कि इस टॉवर की लिफ्ट ही बंद हो गई.

18 मंजिला टावर में अगर बिजली-पानी की सप्लाई न हो.लिफ्ट न चले तो लोगों की हालत क्या होगी. लोगों का आरोप है कि बिल्डर ने ही बिजली-पानी की सप्लाई रोकी थी. बिल्डर के कहने पर ही लिफ्ट भी बंद की गई.

बिल्डर की मनमानी के खिलाफ लोगों ने पुलिस में शिकायत कर दी. लोगों का आरोप है कि पुलिस में शिकायत करने के चलते बिल्डर ने खुन्नस में सिक्योरिटी हटाने का फरमान सुना दिया. मेंटेनेंस कर्मचारी भी हटा दिए गए. लोगों का कहना है कि बिल्डर ने बाउंसर बुला कर दबाव डालने की कोशिश भी की.

मामला बढ़ा तो मीडिया में भी आ गया. ख़बर मीडिया में आने के बाद सोसायटी में सभी सुविधाएं बहाल कर दी गई हैं. भले ही सुविधाएं बहाल हो गई हैं लेकिन लोग सवाल उठा रहे हैं कि क्या मनमानी करने को लेकर बिल्डर के खिलाफ कोई कार्रवाई होगी.