अब 1 दिसंबर को रिलीज नहीं होगी ‘पद्मावती’ , प्रोड्यूसर ने साफ-साफ बता दी वजह

अब 1 दिसंबर को रिलीज नहीं होगी ‘पद्मावती’ , प्रोड्यूसर ने साफ-साफ बता दी वजह




नई दिल्ली: संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती पर जारी विवाद के बीच मेकर्स ने फिल्म की रिलीज डेट आगे बढ़ा दी है. फिल्म के मेकर्स Viacom 18 मोशन पिक्चर्स ने खुद ही इसकी रिलीज डेट आगे बढ़ा दी है.

Viacom18 मोशन पिक्चर्स के स्पोक्सपर्सन ने कहा, “हमें लॉ एंड ऑर्डर और सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (CBFC) जैसी संस्थाओं का ख्याल है. कानून का पालन करने वाले कॉरपोरेट सिटिजन के तौर पर हम प्रक्रियाओं और करारों का पालन करने के लिए समर्पित हैं. हमें विश्वास है कि हम जल्द ही फिल्म की रिलीज के लिए जरूरी मंजूरी ले लेंगे.”

“पद्मावती सिनेमैटिक मास्टरपीस है. इसमें राजपूताना शौर्य, सम्मान और परंपरा को गौरवपूर्ण तरीके से दिखाया गया है. ये फिल्म एक ऐसी कहानी की तरह है, जिसे सुनकर हर भारतीय गर्व से भर जाएगा. और, ये पूरी दुनिया में हमारी कहानी कहने की ताकत को दिखाती है.”

“हम अपने उस दावे पर टिके हुए हैं कि हम ऐसी कहानियां पूरी दुनिया में मौजूद अपनी ऑडियंस को सुनाएंगे, जो उन्हें अच्छी लगें. हम टॉयलेट एक प्रेमकथा, क्वीन, भाग मिल्खा भाग जैसे अपने पुराने प्रोजेक्ट्स के जरिए भी ऐसा ही करते आए हैं.”

करणी सेना के प्रेसिडेंट लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा, “रिलीज कुछ दिनों के लिए टाली गई है. हम भी कुछ दिन इंतजार करेंगे और देखेंगे.” बता दें कि करणी सेना ने 1 दिसंबर को बंद का एलान किया था.

हरियाणा बीजेपी के मीडिया कोऑर्डिनेटर सूरज पाल ने कहा, ” मेरठ के युवाओं ने दीपिका और भंसाली का सिर काटने पर 5 करोड़ के इनाम का एलान किया है. मुझे इस बात की खुशी है. ये काम करने वाले को हम 10 करोड़ का इनाम देंगे और उसके परिवार की जरूरतों का भी ख्याल रखेंगे. रणवीर सिंह ने अगर अपने शब्द वापस नहीं लिए तो टांगों के टुकड़े करके हाथ में दे देंगे.”

CBFC ने शनिवार को प्रोड्यूसर्स को फिल्म वापस लौटा दी थी. ऐसा टेक्निकल वजहों से किया गया था. दरसअल, सर्टिफिकेशन के लिए दी गई एप्लीकेशन अधूरी थी.

सेंसर बोर्ड के चेयरमैन प्रसून जोशी ने न्यूज एजेंसी से कहा, “सेंसर बोर्ड ने अभी तक न तो फिल्म देखी और न ही इसे सर्टिफिकेट दिया. लेकिन इसके मेकर्स की ओर से प्राइवेट स्क्रीनिंग करना और नेशनल चैनल्स पर फिल्म का रिव्यू करना बेहद अफसोसजनक है.”

उन्होंने कहा, “एक तरफ फिल्म रिलीज की प्रॉसेस में तेजी लाने के लिए सेंसर बोर्ड पर दबाव डाला जा रहा है, दूसरी तरफ बोर्ड की प्रॉसेस को ही खत्म करने की कोशिश की जा रही है.”

राजस्थान की सीएम ने शनिवार को स्मृति ईरानी को एक खत में लिखा, “इस बात को निश्चित करें कि फिल्म जरूरी बदलावों के बिना रिलीज ना की जाए. पद्मावती फिल्म को सर्टिफिकेट देने से पहले सेंसर बोर्ड सभी संभावित नतीजों पर विचार कर ले. इतिहासकारों, फिल्म एक्सपर्ट और राजपूत कम्युनिटी के मेंबर्स की कमेटी बनाई जानी चाहिए, ताकि फिल्म के सब्जेक्ट को देखा जा सके और जरूरी बदलाव किए जा सकें ताकि किसी भी समुदाय की भावनाएं आहत ना हों.”

पद्मावती पर जारी विवाद के बीच राजस्थान सरकार की ओर से ये पहला ऑफिशियल कम्युनिकेशन था.

राजस्थान में फिल्म शूटिंग के दौरान इसके विरोध की शुरुआत हुई थी. शूटिंग के वक्त राजपूत करणी सेना ने कई जगह प्रदर्शन किया था और पुतले फूंके थे. जयपुर में शूटिंग के दौरान कुछ लोगों ने संजय लीला भंसाली से बदसलूकी की थी, जिसके बाद कोल्हापुर में फिल्म का सेट लगाया तो यहां भी इसे जला दिया गया.