मोबाइल से एक सैकेण्ड में ट्रांसफर होगा 5 जीबी डेटा, इंडिया में आई टैक्नोलॉजी

मोबाइल से एक सैकेण्ड में ट्रांसफर होगा 5 जीबी डेटा, इंडिया में आई टैक्नोलॉजी




नई दिल्ली  :  आप सोच सकते है कि भारत में एक सैकेण्ड में 5 जीबी डेटा मोबाइल के ज़रिए ट्रांसफर किया जा सकता है. लेकिन ये तकनीक आ गयी है. नाम बेहद जाना पहचाना है 5G तकनीक का एरिक्शन ने बाकायदा डेमोन्स्ट्रेशन करके दिखाया.  कंपनी चाहती है कि भारत में लेटेस्ट टैक्नोलॉजी आए हो और 5जी के लिए पूरा माहौल तैयार हो. ताकि जल्दी से जल्दी भारत में सबको 5जी की सुविधा मिल पाए. . सरकार ने 2020 तक देश में 5जी नेटवर्क को लाने की योजना बनाई है, एक मजबूत 5जी पारिस्थितिक तंत्र के निर्माण की दिशा में इस प्रदर्शन का आयोजन किया गया.”

यह सजीव प्रदर्शन न एरिक्सन के 5जी टेस्ट बेड और 5जी न्यू रेडियो (एनआर) के द्वारा किया गया, जिसमें बेहद कम लेटेंसी 3 मिली सेकेंड के साथ 5.7 गीगा बाइट प्रति सेकेंड की स्पीड प्राप्त हुई.

एरिक्सन की स्टडी कहती है कि  5G के आने से भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदाताओं के पास साल 2026 तक 27.3 अरब राजस्व पैदा करने की क्षमता है.

एरिक्सन के दक्षिण-पूर्व एशिया, प्रशांत क्षेत्र और भारत के बाजारों के प्रमुख नुनजियो मिर्तिलो ने बताया, “हम देश में पहले 5जी प्रदर्शन के आधार पर भारतीय बाजार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को मजबूत कर रहे हैं. सरकार ने 2020 तक देश में 5जी नेटवर्क को लाने की योजना बनाई है, एक मजबूत 5जी पारिस्थितिक तंत्र के निर्माण की दिशा में इस प्रदर्शन का आयोजन किया गया.”

एरिक्सन इंडिया के प्रबंध निदेशक नितिन बंसल ने कहा, “दूरसंचार नेटवर्क में 5जी नए स्तर के प्रदर्शन और विशेषताओं को लेकर आएगी. सेवा प्रदाताओं के लिए राजस्व के नए प्रवाह खुलेंगे. 5जी 2026 तक भारती य ऑपरेटरों के लिए 43 फीसदी वृद्धिशील राजस्व उत्पन्न करने की क्षमता है.”