AAP: 5 साल, 55 कमाल, एक नज़र में जानिए सारे योगदान

AAP: 5 साल, 55 कमाल, एक नज़र में जानिए सारे योगदान




दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने पांच साल पूरे कर लिए हैं. इन पांच साल में आम आदमी पार्टी के खाते में की उपलब्धियां हैं. ये 55 उपलब्धियां हम आपके सामने ला रहे हैं. अगर कुछ छूट गया है तो आप उसका जिक्र कर सकते हैं.

  • वीआईपी कल्चर खत्म किया.
  • राजनीति में आम लोगों की अहमियत बढ़ी.
  • किसानों को देश का सबसे ज्यादा मुआवजा दिया.
  • शहीद सैनिकों को 1 करोड़ रुपये का मुआवजा.
  • करप्शन पर ब्रेक लगाया.
  • सरकारी स्कूलों में पीटीएम शुरू हुई.
  • सरकारी स्कूलों में पेरेन्टिंग की शिक्षा शुरू हुई.
  • सरकारी स्कूल की इमारतें बदल दी गईं. वर्ल्ड क्लास फर्नीचर मिला.
  • शिक्षा का बजट रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ाया गया.
  • सेहत के मामले में दुनिया का सबसे सफल प्रयोग.



  • मोहल्ला क्लीनिक के जरिए घर-घर मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाईं.
  • एक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के पैसे में 40 क्लीनिक बनाए गए.
  • सरकारी अस्पतालों में दवाएं मिलनी शुरू हुईं. बाहर की दबाएं लिखने पर रोक लगी.
  • प्राइवेट अस्पतालों में गरीबों के मुफ्त ऑपरेशन और इलाज की शुरुआत.
  • दिल्ली में गैस्ट टीचर की नौकरी पक्की हुई.
  • करप्शन के लिए हैल्पलाइन बनाई गई.
  • बिजली कंपनियों के खिलाफ सीएजी के आदेश दिए गए.
  • करप्शन खत्म हुआ और सरकार की आमदनी बढ़ी.
  • सरकार ने दिल्ली की सड़कों को प्रदूषण से बचाने के लिए वैक्यूम क्लीनर से सफाई शुरू की.
  • शराब पर एक्साइज चोरी का रैकेट पकड़ा इससे टैक्स की आमदनी कई गुना पढ़ गई.
  • दिल्ली में सार्वजनिक कामों पर खर्च में भारी बजट हुई.
  • करीब 60 फीसदी दम में पुल बनाकर पीडब्लूडी ने नाम कमाया.



  • गरीबों के लिए सस्ती आधुनिक और एडवांस्ड सस्ती भोजन थाली की शुरुआत हुई.
  • एलएनजेपी अस्पताल में ऐसी कैंटीन से 20 रुपये में खाना भी मिल रहा है.
  • स्कूल की शिक्षा विश्व स्तर की बनाने के लिए इंटरनेशनल ट्रेनिंग शुरू.
  • दिल्ली स्टेट कैंसर इस्टीट्यूट देश का सबसे बड़ा कैंसर अस्पताल बना.
  • आप दिल्ली में 70 में से 67 सीट जीतने वाली पहली पार्टी बनी.
  • दिल्ली में निर्भया कांड होने पर कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे.
  • पार्टी को चुनावी सफलता मिली 2012 में पार्टी बनी.
  • 2013 में Delhi विधायक बने .
  • 2014 में Punjab से चार सांसद बने.
  • 2015 में दिल्ली में रिकॉर्ड 67 विधायक जीते.
  • 2017 में पंजाब में 22 सीटों पर पार्टी जीती
  • 2017 में MCD में 48 से ज्यादा सीटें
  • दिल्ली महिला आयोग ने पतिताओं के जीवन पर ध्यान दिया और कोठा मालिकों की बाकायदा सूची बनाई गई.
  • सरकार ने रोजगार मेला लगाया इससे बड़ी संख्या में लोगों को काम मिला.
  • बवाना में वर्ल्ड क्लास सिथेटिक एथलेटिक ट्रेक लगाई गई.
  • दिल्ली में नेशनल ओपन स्कूल गेम्स का आयोजन . इससे देश भर के स्कूलों के बच्चों से मुकाबला करके दिल्ली के बच्चे मजबूत हुए.
  • दिल्ली में फ्री कोचिंग शुरू करने की तैयारी. बच्चों को कंपटीशन के लिए तैयार किया जाएगा.3
  • महिलाओं के लिए हैल्पलाइन शुरू की गई.
  • दिल्ली में रैनबसेरों की संख्या बढ़ाई गई. बेघरों के पास रात बिताने का इंतजाम हुआ. ठंड से होने वाली मौतों में कमी आईँ.
  • मंत्री जितेन्द्र तोमर की डिग्री फर्जी पाए जाने पर उनके बाहर का रास्ता दिखाया गया.
  • आसिम खान के उपर लगे आरोपों का पता मीडिया को तब लगा जब केजरीवाल ने उनको निकाल दिया. ये भारत की राजनीति में पहली बार हुआ. उनके खिलाफ बिल्डरों से वसूली के मामले केजरीवाल को पता चले थे.



  • संदीप कुमार बेहद अहम मंत्री थे . सैक्स स्कैंडल की सीडी सामने आते ही पार्टी ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया.
  • केजरीवाल सरकार ने सरकार होने के साथ साथ जनता का नुमाइंदा होने का फर्ज भी निभाया. मेट्रो किराये बढ़ाने का मामला हो या कोई दूसरा विषय सरकार ने हमेशा आवाज़ बुलंद की. मेट्रो किराये मामले में केजरीवाल की बात न मानने का खामियाजा भी भुगतना पड़ा.
  • दिल्ली के चुने हुए लोग अफसरों के गुलाम न बने रहें इसके लिए केजरीवाल ने लगातार संघर्ष किया. यहां तक कि वो सुप्रीम कोर्ट में भी लड़े.
  • सबसे बड़ बात ये कि तमाम अड़ंगेबाज़ी के बावजूद केजरीवाल ये उपलब्धियां हासिल करने में कामयाब रहे.
  • सरकार की तारीफ खुद न्यूयॉर्क टाइम्स ने की . लिखा कि मोहल्ला क्लीनिक पूरी दुनिया में बदलाव ला सकता है ये समझदारी का मॉडल है.



  • घर बैठे लोगों को सरकार की सुविधाएं मिलनी शुरु हुई.
  • दिल्ली में 40 सेवाएं घर बैठे पहुंचाई गईं.
  • घर बैठे ड्राइविंग लायसेंस पहुंचाना शुरू किया गया.
  • राशन कार्ड घर बैठे डाक से पहुंचाने का काम शुरू हुआ.
  • आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, एनओसी जैसी चीज़ों के लिए सरकार के दफ्तर जारना जरूरी नहीं रहा.
  • राशन लेने भी राशन की दुकान पर नहीं जाना होगा. घर पर ही राशन की होम डिलीवरी होगी.
  • सरकार का प्लान कुल 70 सेवाओं को लोगों तक पहुंचाने का है.