राहुल गांधी की मांग- पेट्रोल डीजल को GST के दायरे में लाए सरकार

अहमदाबाद : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि पेट्रोल डीजल को भी  जीएसटी के के दायरे में लिया जाए ताकि आम जनता को राहत मिले. पेट्रोल व डीजल को भी जीएसटी के दायरे में लाने की मांग करते हुए राहुल ने कहा कि दुनिया में घट रहे तेल के दामों का लाभ जनता को मिलना चाहिए.

केन्द्र सरकार की ओर से एक दिन पहले ही जीएसटी की दरों में सुधार पर राहुल ने कहा कि गुजरात की जनता ने केन्द्र सरकार को झुका दिया. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र जय शाह के बाद अब राहुल ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी को भी आडे हाथ लिया है. रुपाणी की कंपनी के जरिए शेयर खरीद फरोख्त के मामले को लेकर राहुल ने सेबी के नोटिस का हवाला देते हुए कहा कि रुपाणी ने बेईमानी की जिससे उनकी कंपनी पर जुर्माना लगा.

उन्होंने सवाल उठाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जय व रुपाणी के मामले को लेकर चुप क्यों हैं, उनहोंने पहले कहा था कि वे ना खाएंगे ना खाने देंगे. प्रधानमंत्री को अब इन मामलों में अपनी चुप्पी तोडनी चाहिए.

राहुल बोले कि गुजरात में सामान्य लोगों को सरकार दबा रही है, शिक्षा व स्वास्थ्य सेवा का व्यापारीकरण हो गया. राहुल गांधी ने कहा कि 22 साल से लोगों को उद्योपतियों की सरकार की आदत पड़ गई लेकिन अब कांग्रेस जनता की सरकार उनकी ही मदद से बनाकर दिखाएगी.

गुजरात चुनाव प्रचार के लिए उतरी केन्द्रीय मंत्रियों की फौज पर चुटकी लेते हुए राहुल ने कहा कि भले मोदी जी, अमित शाह, निर्मला सीतारमण व अन्य मंत्री प्रचार के लिए गुजरात आ रहे हों लेकिन दिसंबर में भाजपा वापस सरकार में नहीं आएगी.

राहुल के साथ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी, कांग्रेस प्रभारी अशोक गहलोत आदि नेता भी यात्रा में शामिल हैं. गांधीनगर के पास एक होटल पर इन नेताओं ने फाफडा जलेबी का जायका लिया. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता शक्तिसिंह गोहिल ने कहा है कि राहुल लोकतांत्रिक सोच रखते हैं तथा आम जनता से घुल मिल रहे हैं. चाय की स्टाल वाले के कंधे पर हाथ रखकर राहुल ने उनसे भी पूछा कि आप सरकार से क्या अपेक्षा रखते हैं.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें