“रन फॉर यूनिटी” में बदसलूकी के बाद लड़कियों ने बीच में छोड़ी दौड़, वालंटियर्स की कूड़ा गर्दी

“रन फॉर यूनिटी” में बदसलूकी के बाद लड़कियों ने बीच में छोड़ी दौड़, वालंटियर्स की कूड़ा गर्दी




नई दिल्ली : रन फॉर यूनिटी में सरदार पटेल का जन्मदिन मनाने के लिए दिल्ली में आयोजित दौड़ में जबरदस्त अराजकता रही. इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार दौड़ में भाग लेने वाले लोगों ने जमकर कूड़ा फैलाया और खाने पीने का सामान भी यहां वहां फेंक दिया. यहां फेंके गए कचरे में सरदार बल्लभ भाई पटेल के फोटो भी थे.  चैनल की संवाददाता ने बाकायदा एक फोटो हाथ में उठाकर दिखाया. सबसे बड़ी बात ये थी कि वालंटियर्स भी कूड़ा फैलाने में किसी से पीछे नहीं रहे.

इतना ही नहीं रन फॉर यूनिटी में शामिल होने गए लोगों की भीड़ ने लड़कियों के साथ भी बदसलूकी की. लोगों ने उनके बाल खींचे, यहां वहां से छुआ और कागज़ के डार्ट बनाकर फेंके.

हुड़दंग और बदतमीजी इतनी ज्यादा थी कि ज्यादातर लड़कियों को अपनी दौड़ बीच में ही छोड़ देनी पड़ी. इंडिया टुडे की रिपोर्टर ने सभी लड़कियों की आपबीती भी दिखाई, संवाददाता मौसुमी सिंह ने बताया कि कैसे लड़कियों को परेशान किया गया.

सुबह सरदार पटेल की जयंती मनाई गई थी और दिल्ली के नेशनल स्टेडियम से एक दौड़ रवाना हुई जिसमें पीएम मोदी ने कांग्रेस पर सरदार पटेल को भुला देने की कोशिश करने का आरोप लगाया. रन फॉर यूनिटी उन आयोजनों में से एक है जो देश के महापुरुषों की जयंती या शहीदी दिवस पर किए जाते हैं.

कांग्रेस इन आयोजनों को महात्मा गांधी और इंदिरा गांधी की शहादत को भुलाने की कोशिश का हिस्सा है. जिसने देश के लिए जान दी उसकी पुण्यतिथि पर दौड़ जैसे आयोजन हो रहे हैं इसी तरह स्वच्छ भारत अभियान आयोजित करके गांधी को भुलाने की कोशिश हो रही है. इतना ही नहीं इस दिन सरकारी विज्ञापन लगभग बंद हो गए हैं और उनसे गांधी जी की फोटो भी हटा दी गई है.