जवानों ने राजनाथ को गार्ड ऑफ ऑनर देने से इनकार किया

जवानों ने राजनाथ को गार्ड ऑफ ऑनर देने से इनकार किया




जोधपुर: सोमवार को दौरे पर जोधपुर में पहुंचे होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह को वहां मौजूद पुलिस के जवानों ने सलामी देने से इनकार कर दिया. राजनाथ को सलामी देने 8 जवानों को जाना था, उन्होंने जानबूझकर छुट्टी ले ली. बाद में दूसरी टीम को जबरदस्ती भेजकर सलामी दिलवाई गई. इतना ही नहीं एडीजी को भी जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर देने से इनकार कर दिया.

इससे पहले जयपुर के रायसर में चौकी इंचार्ज और 5 कॉन्स्टेबल के सिर मुंडाकर विरोध दर्ज करा चुके हैं. पूरे राजस्थान में पुलिस जवानों का अलग-अलग तरीके से विरोध सामने आ रहा है.

प्रदेश भर में पुलिस जवानों ने सामूहिक अवकाश के लिए अर्जी दी थी, लेकिन अफसरों ने इसे नामंजूर कर दिया. इस कारण कई जगह जवान गैरहाजिर हो गए.

हालांकि, राजनाथ मामले में जोधपुर के पुलिस कमिश्नर अशोक राठौड़ ने कहा कि किसी भी वीवीआईपी या वीआईपी को सलामी देने के लिए टीम फिक्स नहीं होती. होम मिनिस्टर के दौरे में भी पुलिस की टीम में से कुछ जवान छुट्टी पर थे, तो उनकी जगह दूसरों को भेज दिया. इसमें इनकार करने जैसी कोई बात नहीं है.

गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना करने वालों पर होगी कार्रवाई

एडीजी एमएल लाठर ने कहा “जोधपुर कमिश्नरेट का इंस्पेक्शन करने गया था तो जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर देने से मना कर दिया. जिन जवानों का नाम इस मामले में सामने आया है वे 2004 के बाद भर्ती हुए हैं. बाद में दूसरी टुकड़ी बुलाई गई. जिन्होंने मना किया है, उन पर कार्रवाई की जा रही है.”

जयपुर में 10 और जवानों ने सिर मुंडवाए हैं. सोमवार को सिविल लाइन मेट्रो स्टेशन के दस से ज्यादा पुलिसकर्मियों ने मुंडन करवाया. दोपहर में पुलिस जवान पुलिस लाइन में एकट्ठे होने लगे. खबर मिलने पर डीसीपी गौरव श्रीवास्तव पुलिस लाइन पहुंचे और समझाइश दी.

जोधपुर में बच्चों ने रैली निकालकर हक मांगा. एक हफ्ते मैस का बायकॉट करने वाले जवान सोमवार से सामूहिक अवकाश पर चले गए. ट्रैफिक को लेकर सारे इंतजाम चरमरा गए. जवानों के परिवार भी साथ खड़े नजर आए और रैली निकाली. बच्चों ने हाथों में तख्तियां लेकर हक मांगा.

भीलवाड़ा में 250 पुलिसकर्मी छुट्टी पर है. यहां 8 दिन से मैस का बायकॉट कर रहे करीब 250 जवान सोमवार को सामूहिक अवकाश पर उतर गए. उन्हें समझाया गया, लेकिन जवान मांगों पर अडिग रहे.

उदयपुर में भी सुरक्षा बंदोबस्त में जवान नहीं गए. यहां पुलिसकर्मी सामूहिक अवकाश पर रहे और मैस का बायकॉट भी जारी रखा. दोपहर 12 बजे और शाम 4 बजे के रोल कॉल में ड्यूटी सुनने नहीं पहुंचे और शाम को ड्यूटी पर नहीं पहुंचे.

जवानों की मांगे :

सैलरी से कटौती नहीं की जाए.

मैस एलाउंस 1600 रु. से बढ़ाकर चार हजार रुपए किए जाए.

हार्ड ड्यूटी एलाउंस 12% से बढ़ाकर 50% किया जाए.

कॉन्स्टेबल की एलिजिबिलिटी 12वीं पास की जाए.

बाइक एलाउंस 2000 रु. किया जाए.

सेवंथ पे कमीशन 1 जनवरी 2016 से लागू हो.