अमेरिका से राहुल गांधी का मोदी पर एक और हमला, तिलमिला गए आलोचक

अमेरिका से राहुल गांधी का मोदी पर एक और हमला, तिलमिला गए आलोचक

वाशिंगटन : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी का हथियार उल्टा उन पर आजमा लिया है. अब तक पीएम विदेश यात्राओं में जाकर विपक्षियों पर हमले करते थे और विरोधियों का मज़ाक उड़ाते थे इस बार राहुल गांधी की बारी है. राहुल ने अमेरिका के जाने माने बुद्धिजीवियों के सामने अपना रुख साफ किया.  उन्होंने कहा बढ़ती असहिष्णुता और बेरोजगारी से भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा और विकास के लिए गंभीर चुनौती पैदा हो गई है.

राहुल ने सोमवार को यहां कई अमेरिकी संगठनों और उनके प्रतिनिधियों के साथ बैठक की. वह बुधवार को न्यूयॉर्क में एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे. इससे पहले वह न्यूजर्सी में प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के छात्रों से रूबरू होंगे. राहुल इन दिनों दो सप्ताह की अमेरिका यात्रा पर हैं. उन्होंने यहां विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी से जुड़े थिंकटैंक सेंटर फॉर अमेरिकन प्रोग्रेस (सीएपी) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भी शिरकत की.

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने इस दौरान भारत और दक्षिण एशिया मामलों के विशेषज्ञों जैसे सीएपी प्रमुख नीरा टंडन, भारत में अमेरिकी राजदूत रहे रिचर्ड वर्मा और हिलेरी क्लिंटन के प्रचार अभियान के सलाहकार रहे जॉन पोडेस्टा के साथ मौजूदा मसलों पर विचार-विमर्श किया.

राहुल ने ह्वाइट हाउस में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की प्रमुख लीजा कुर्टिस से भी मुलाकात की. बैठक में शामिल लोगों ने बताया कि ट्रंप सरकार के अधिकारियों ने भारत-अमेरकिा संबंधों और राष्ट्रपति द्वारा पिछले महीने घोषित नई अफगानिस्तान और दक्षिण एशिया नीति पर राहुल का रुख जानना चाहा. राहुल ने अमेरिकी अखबार ‘द वाशिंगटन पोस्ट’ के संपादकीय मंडल के साथ भी अनौपचारिक बैठक की, जिसमें उन्होंने दुनिया भर खासकर भारत में बढ़ती असहिष्णुता पर चिंता जाहिर की.

इससे पहले यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल की ओर से आयोजित कार्यक्रम में कांग्रेस नेता ने यूएस चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी थॉमस डोनहुई से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार द्वारा रोजगार के अवसर पैदा नहीं करने पर चिंता जताई और कहा कि इसके कारण देश खतरनाक स्थिति की ओर जा रहा है.

अपने व्यस्ततम कार्यक्रम में उन्होंने सोमवार शाम को रिपब्लिकन पार्टी के रणनीतिकार पुनीत अहलुवालिया और अमेरिकी फॉरेन पॉलिसी इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित बैठक में भी हिस्सा लिया. पुनीत ने राहुल को जमीनी समझ रखने वाला नेता बताया. राहुल ने वर्जीनिया के गवर्नर टेरी मैकल्फी से भी मुलाकात की. उनके साथ मौजूद सैम पित्रोदा ने बताया कि राहुल से मिलने वाले लोगों के मुताबिक जैसा उनके बारे में बताया गया है, वह उससे बिल्कुल उलट हैं. (COURTSEY-INDIAN ABROAD)