ऐसे करें फेक न्यूज़ की पहचान, फेसबुक ने दिए टिप्स

ऐसे करें फेक न्यूज़ की पहचान, फेसबुक ने दिए टिप्स




नई दिल्ली: प्रमुख सोशल मीडिया वेबसाइट facebook ने अपने यूजर्स को फर्जी खबरों के प्रति आगाह करते हुए आज कहा कि इस समस्या से मिलकर ही निपटा जा सकता है.

कंपनी ने इस बारे में अखबारों में एक विज्ञापन छपवाया है. facebook ने यह कदम ऐसे समय में उठाया है जबकि सोशल मीडिया विशेषकर facebook और व्हाट्सएप के जरिए फर्जी झूठे समाचार, सूचनाएं फैलाए जाने को लेकर खासी चिंता जताई जा रही है. व्हाटसएप भी अब facebook के स्वामित्व वाली कंपनी है.

इस विज्ञापन में सिर्फ facebook का प्रतीक चिन्ह है और इसका संदेश है, हम मिलकर झूठी खबरों को सीमित कर सकते हैं. facebook का कहना है कि वह झूठी खबरों के प्रसार पर लगाम लगाने की दिशा में काम कर रही है. साथ ही वह लोगों को काबिल बनाना चाहती है कि वे झूठी फर्जी खबरों की पहचान कर सकें.

कंपनी ने यूजर्स व पाठकों को सलाह दी है कि किसी भी खबर पर भरोसा करने से पहले उसके बारे में जांच पड़ताल कर ली जाएगी. इसमें यह भी बताया गया ​है कि आमतौर किस तरह की खबरें फर्जी या झूठी होती हैं.

इन टिप्स के जरिए आप भी पहचान सकते हैं ‘फेक या फर्जी न्यूज’ को

  1. मिसलीडिंग और कैची हेडलाइंस-फेक न्यूज के लेखक आमतौर पर ‘कैप्स’ में हेडलाइन बनाते हैं और अगर हेडलाइन में ‘शॉकिंग’ या ‘अनबिलिविबल’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल हो तो उस खबर के फर्जी होने की संभावना होती है.
  2. यूआरएल जांचे- कई वेबसाइट्स अधिकृत वेबसाइट्स से यूआरएल कॉपी करके उसमें मामूली बदलाव करके नया यूआरएल बनाके फेक खबर बनाने की कोशिश करती हैं.
  3. खबर के सोर्स को जांचे- खबर कितनी सही है ये जानने के लिए आप इसके सोर्स को जांच सकते हैं.
  4. खबर की फॉर्मेटिंग को देखें- फर्जी खबरों की फॉरमेटिंग आमतौर पर असमान्य लेआउट के साथ और कई सारी मात्राओं, शब्दों की गलतियों के साथ होती है.
  5. गलत इमेज का इस्तेमाल- अक्सर फेक न्यूज वाली खबरों में गलत या भ्रमित करने वाली इमेज (तस्वीर) का इस्तेमाल किया जाता है.

फेसबुक पिछले कुछ समय से ये जानकारियां अपने सोशल मीडिया ग्राहकों को भी दे रहा है. फेसबुक के इस विज्ञापन के पीछे सुप्रीम कोर्ट की सख्ती को देखा जा रहा है.