श्री श्री को एयरपोर्ट छोड़ने गए चीफ जस्टिस, बार काउंसिल ने उठाए सवाल

श्री श्री को एयरपोर्ट छोड़ने गए चीफ जस्टिस, बार काउंसिल ने उठाए सवाल

नई दिल्ली : आम तौर पर जज और न्याय व्यवस्था से जुड़े लोगों को आम लोगों से दूर रहने की सलाह दी जाती है. लेकिन ये उदाहरण न्याय की निष्पक्षता पर भी सवाल खड़े करने वाला है. गुवाहाटी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस चीफ जस्टिस न्यायमूर्ति अजीत सिंह पर नियम और प्रोटोकॉल तोड़ने का आरोप लगा है. आरोप है कि चीफ जस्टिस ने आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक प्रमुख और आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर को अपनी कार में बिठाकर खुद गाड़ी चलाकर एयरपोर्ट पर पहुंचाया है.

ऐसा करते हुए उनकी तस्वीर भी सामने आई है. लाइव लॉ डॉट इन के मुताबिक यह घटना 5 सितंबर की है, जब श्री श्री रविशंकर गुवाहाटी में पूर्वोत्तर के मूल निवासियों के जनसमागम में हिस्सा लेने आए थे.

जैसे ही यह खबर कानून जगत में फैली गुवाहाटी हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के लोगों ने आरोप लगाया कि मुख्य न्यायाधीश ने हाई कोर्ट के नियमों की अवहेलना की है. बार एसोसिएशन के सदस्यों ने फैसला किया है कि एसोसिएशन की अगली आम सभा में इस मुद्दे को उठाएंगे. इसके अलावा बार एसोसिएशन के लोग इसकी शिकायत देश के मुख्य न्यायाधीश से भी करने पर विचार कर रहे हैं.

बता दें कि गुवाहाटी दौरे पर श्री श्री रविशंकर ने वैसे उग्रवादी समूहों के लिए शांति प्रक्रिया में शामिल होने की इच्छा जताई थी जो मुख्यधारा में वापसी चाहते हैं. असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर के इन प्रयासों की काफी सराहना की है.