पहलाज निहलानी ने खोल दी जुबान, बाहर आए मोदी सरकार के सीक्रेट खेल, आज़ाद नहीं था सेंसर

पहलाज निहलानी ने खोल दी जुबान, बाहर आए मोदी सरकार के सीक्रेट खेल, आज़ाद नहीं था सेंसर

नई दिल्ली : हाल ही में सेंसर बोर्ड के चीफ के पद से हटाए गए पहलाज निहलानी ने जो बयान दिया है वो मोदी सरकार की तानाशाही शैली की झलक देता है. लगातार इस देश में आरोप लगाया जाता रहा है कि देश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमले हो रहे हैं. इस पर देश के सबसे बड़े साहित्यकारों ने सम्मान तक लौटा दिए. अब पहलाज निहलानी ने बताया है कि कैसे केन्द्र सरकार अभिव्यक्ति को दबाने के लिए सेंसरबोर्ड का गलत इस्तेमाल कर रही है. पहलाज निहलानी ने कई खुलासे किए. उन्होंने स्मृति ईरानी और उनसे पहले वाले मंत्रियों के बारे में भी कई खुलासे किए. यूट्यूब चैनल ‘लहरें टीवी’ को दिए इंटरव्यू में निहलानी ने कहा कि उनको हटाने के पीछे इनफॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्ट मिनिस्टर स्मृति ईरानी का हाथ भी है.

निहलानी ने इस इंटरव्यू में कहा, ‘इनफॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री में मैं उनका टारगेट नंबर-1 था. ये सबकुछ तब शुरू हुआ जब मैं मधुर भंडारकर की फिल्म ‘इंदु सरकार’ को क्लियर नहीं कर रहा था. उन्होंने (स्मृति ईरानी) ने मुझे फोन किया और पूछा कि मैं इस फिल्म को हरी झंडी क्यों नहीं दे रहा हूं. मैंने कहा कि मैं बस गाइडलाइन फॉलो कर रहा हूं और वो फिल्म ट्रिब्यूनल के पास है. मैंने उनसे कहा कि अगर वो चाहती हैं तो ट्रिब्यूनल से इसे क्लियर करा सकती हैं. इसके बाद मुझे हटाया गया.’

निहलानी ने इस इंटरव्यू में ये भी आरोप लगाया कि शाहिद कपूर स्टारर ‘उड़ता पंजाब’ को सेंसर बोर्ड से पास नहीं करने के लिए इनफॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री ने ही कहा था. फिल्म पंजाब में ड्रग के बिजनेस को लेकर बनी थी. निहलानी ने इंटरव्यू में कहा, ‘मैं पहली बार इस बात का खुलासा कर रहा हूं कि फिल्म को पास नहीं करने के लिए इनफॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री ने कहा था. कई तरफ से प्रेशर था कि मैं इस फिल्म को पास न करूं. इसके बाद रिवाइजिंग कमिटी ने तारीख दी और मैंने इसे गाइडलाइन्स के साथ पास कर दिया.’

निहलानी ने आरोप लगाया कि उन्हें सलमान खान स्टारर फिल्म ‘बजरंगी भाईजान’ को भी पास नहीं करने के लिए कहा गया था. उन्होंने इंटरव्यू में कहा, ‘मुझे मिनिस्ट्री से फोन आया था कि फिल्म को ईद के मौके पर रिलीज ना किया जाए. मिनिस्ट्री को ऐसा लगा था कि फिल्म लव जेहाद पर बनी है. लेकिन मैंने स्क्रिप्ट पहले ही सुनी थी. मैंने मिनिस्ट्री को लेकर लिखा कि वो इस फिल्म को गाइडलान्स के साथ देखें.’ निहलानी की जगह सेंसर बोर्ड का चीफ प्रसून जोशी को बनाया गया है. खुद को सैक किए जाने को लेकर उन्होंने राज्यवर्धन सिंह राठौर, अनुराग कश्यप और एकता कपूर को जिम्मेदार ठहराया है. इतना ही नहीं इस लिस्ट में अब निहलानी ने एक नाम और जोड़ दिया है.