लड़की नहीं हमलावर के साथ हैं ‘मोदी समर्थक’, चैनल से कहा- हम वर्णिका के साथ नहीं

लड़की नहीं हमलावर के साथ हैं ‘मोदी समर्थक’, चैनल से कहा- हम वर्णिका के साथ नहीं

नई दिल्ली : चंडीगढ़ में भले ही वर्णिका के साथ बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के बेटे विकास वराला की हरकत से आपका खून खौल रहा हो लेकिन टाइम्स नाऊ देखने वाले राष्ट्रवादी दर्शक वर्णिका के साथ नहीं है. बुधवार (नौ अगस्त) को खुद खुल्लम खुल्ला मोदी समर्थक चैनल माने जाने वाले टाइम्स नाऊ और अर्नब गोस्वामी के लिए अजीब स्थिति पैदा हो गई. भक्त कहे जाने वाले दर्शकों ने अर्नब गोस्वामी के कैंपेन में वर्णिका के खिलाफ पोल किया.  चैनल ने अपने फेसबुक पेज पर एक पोल किया, “आई स्टैंड विथ वर्निका, डू यू?” (हम वर्निका के साथ हैं, क्या आप हैं?), यूजर्स को इस पोस्ट पर हाँ या ना लिखकर अपनी राय देनी थी. ज्यादातर लोगों ने इसके जवाब में कहा कि वो अर्नब गोस्वामी के साथ नही है.

दीप्ति मेनन नामक एक फेसबुक दीप्ति ने इस पोल का स्क्रीनशॉट लेकर एक पोस्ट लिखी. दीप्ति ने एक स्क्रीन शॉट लगाया. दीप्ति के लगाए स्क्रीनशॉट में साफ दिख रहा है कि तब तक 930 लोगों ने पीड़ित लड़की वर्निका के साथ होने की बात कही थी जबकि 1078 ने कहा कि वो उसके साथ नहीं है. बूमलाइव नामक एक वेबसाइट ने जब इस खबर को प्रकाशित किया तब तक रिपब्लिक के इस पोल पर 1583 लोगों ने नहीं और 1442 लोगों ने हाँ  कहा था. इसके बाद तो सोशल मीडिया पर कई लोग अरनब गोस्वामी को ताने मारने लगे कि उनके दर्शक ऐसे ही हैं.

जाहिर है घटना के सामने आने के बाद से ही सोशल मीडिया पर कई बीजेपी सपोर्टर विकास बराला और सुभाष बराला का बचाव कर रहे हैं. आईएएस अधिकारी की बेटी वर्निका की एक तस्वीर के संग झूठी खबर भी सोशल मीडिया पर शेयर की गई थी जिसके गलत होने का सच बाद में सामने आ गया.

सोशल मीडिया पर रिपब्लिक के इस पोल के उलटे पड़ जाने की खबर जब फैलनी शुरू हुई तो चैनल ने इसे डिलीट कर दिया. जब एक समाचार वेबसाइट ने रिपब्लिक के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर इस बाबत सवाल पूछ तो उसे जवाब नहीं मिला. जाहिर चैनल को समझ में आ गया था कि उसने जिस तरह के दर्शक अपने लिए तैयार किए हैं उनमें से आधे से अधिक वर्निका के मुद्दे पर चैनल के साथ नहीं हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.