64 की उम्र में बच्चे के मां बाप बने ये दंपति

64 की उम्र में बच्चे के मां बाप बने ये दंपति

नई दिल्ली : क्या कोई 64 साल की उम्र में पिता बन सकता है? अगर हम कहें हां तो आप चौंक जाएंगे लेकिन दिल्ली में ऐसा कमाल हुआ है. कहानी मीणा परिवार की हैय साल 2015 में अचानक 31 साल का बेटा खोने के बाद मीणा परिवार तन्हा महसूस कर रहा था, लेकिन इस परिवार ने उम्मीद नहीं छोड़ी. 60 पार की उम्र में दिल्ली के इस कपल ने फैसला किया कि वो IVF तकनीक को आजमाएगा. आखिर ये फैसला खुशखबरी लाया और 64 की उम्र में चमेली मीणा मां बन गईं. इसी साल मार्च के महीने में उन्होंने बेटे को जन्म दिया. चमेली के 65 वर्षीय पति जगदीश 62 की उम्र में एक सरकारी कंपनी से रिटायर हुए थे. इस दंपती ने अपने बेटे का नाम अरमान रखा है.

मीणा दंपति अकेले ऐसे नहीं है जिसने इतनी ज्यादा उम्र में IVF तकनीक के जरिए मां-बाप बनने का फैसला किया. चमेली का IVF ट्रीटमेंट दिल्ली IVF ऐंड फर्टिलिटी सेंटर में हुआ. इस सेंटर के डायरेक्टर डॉ. अनूप गुप्ता कहते हैं कि पिछले 5 वर्षों में उन्होंने 50 साल से ऊपर की 20-25 महिलाओं का IVF ट्रीटमेंट किया. वह बताते हैं, ‘अगर महिला स्वस्थ है तो IVF ट्रीटमेंट से बच्चा पैदा किया जा सकता है. हम कैसे किसी महिला को इस तकनीक का इस्तेमाल करने से रोक सकते हैं? हम इस ट्रीटमेंट के लिए हां करने से पहले कपल के आर्थिक हालात भी देखते हैं.’

एक्सपर्ट ने बताया कि 50 से ज्यादा की उम्र में IVF ट्रीटमेंट लेने वाले ज्यादातर कपल ऐसे होते हैं, जो किसी ऐक्सिडेंट या घटना में अपना बच्चा खो चुके होते हैं. डॉ. गुप्ता ने कहा, ‘इस दौरान एक ऐसा केस भी सामने आया था जिसमें रिटायर होने की उम्र तक कपल की कोई संतान नहीं थी. कपल अकेला महसूस करता था.’

बीते साल पंजाब की एक 72 वर्षीय महिला ने IVF तकनीक के जरिए बेटे को जन्म दिया था. हरियाणा फर्टिलिटी सेंटर में हुए इस जन्म ने वर्ल्ड रेकॉर्ड बनाया था. इस सेंटर की वेबसाइट पर कई ऐसे मामलों का जिक्र है, जिनमें कपल की उम्र 50 के पार है. हालांकि, इस तकनीक के जरिए मां-बाप बनने से घर में खुशियां फैल जाती हैं, लेकिन कई डॉक्टर ज्यादा उम्र में पैदा हुए बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित रहते हैं.