शरद यादव करेंगे बड़ा धमाका, नयी पार्टी का कर सकते हैं एलान, JDU में दो फाड़ के आसार

शरद यादव करेंगे बड़ा धमाका, नयी पार्टी का कर सकते हैं एलान, JDU में दो फाड़ के आसार




नई दिल्ली: जल्द ही नितीश कुमार अपने पॉलिटिकल करियर की सबसे बड़ी मुसीबत में पड़ने वाले हैं. जदयू के वरिष्ठ नेता शरद यादव ने नितीश को बाहर का रास्ता दिखाने की तैयारी कर ली है. सूत्रों के मुताबिक शरद यादव अंदर ही अंदर खुद को मजबूत बनाने में जुटे हैं और नितीश से नाराज़ नेताओं को अपने साथ लाने की कोशिश में हैं. सूत्रों का कहना है कि शरद यादव ने नयी पार्टी बनाने की तैयारी कर ली है. वो लगातार विपक्षी नेताओं से बात कर रहे हैं. वैसे भी नितीश के साथ शरद यादव की नाराज़गी पुरानी है.

नीतीश ने पिछले साल अक्टूबर में शरद को राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटवाकर ही पार्टी की कमान अपने हाथ में ली थी. इधर दोबारा नितीश ने पार्टी की विचारधारा के खिलाफ जाकर कदम उठाया है. शरद ने नितीश के कदम को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. जाहिर बात है अब उन्हें कदम भी उठाना ही होगा. जानकारों का कहना है कि नितीश को शरद यादव के इस कदम का अंदाज़ा है .




अपने मिशन को कामयाब बनाने के लिए शरद विपक्षी नेताओं से मुलाकात भी कर रहे हैं. इस सिलसिले में हाल में सीपीआई के डी राजा और लालू यादव ने शरद यादव से मुलाकात की है और शरद को समर्थन का आश्वासन दिया है. शरद यादव मध्य प्रदेश, गुजरात और केरल के जदयू नेताओं से भी मिले हैं. इन नेताओं ने शरद यादव को भरोसा दिलाया है किन नितीश के खिलाफ उनके हर कदम में वो साथ देंगे. रविवार को शरद यादव के आवास पर उनसे मिलने वालों में सीपीआई नेता डी राजा और रालोद प्रमुख अजीत सिंह शामिल थे. शुक्रवार को कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद और सीपीआई (एम) के महासचिव सीताराम येचुरी उनसे मिल चुके हैं.




इतना ही नहीं एनसीपी के तारिक अनवर भी शरद से मिल चुके हैं. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भी शरद से बात की है. लालू यादव ने भी शरद यादव से साथ आने की अपील की है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी शरद यादव से बात की है. माना जा रहा है कि सपा सांसद नरेश अग्रवाल जल्द ही शरद यादव से मिलने वाले हैं. मध्य प्रदेश के गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के हीरा सिंह मरकाम और और गुजरात से सात बार विधायक रह चुके जदयू नेता छोटू भाई वासवा भी शरद के साथ हैं.

इन सभी नेताओं ने शरद को समर्थन दिया है इसके अलावा राज्यसभा में पार्टी के 10 सांसदों से भी शरद को समर्थन का वादा मिला है. इनमें दो राज्यसभा सांसद, अली अनवर और वीरेंद्र कुमार पहले ही नीतीश के खिलाफ खुलकर बयान भी दे चुके हैं. इसके अलावा बिहार के करीब 12 विधायक भी शरद के साथ हैं और उनके अगले कदम का इंतज़ार कर रहे हैं.




Comments are closed.