चीन का झुकने से इनकार, अखबार ने कहा या तो भारत झुके या युद्ध होगा

LADAKH, INDIA - AUGUST 05: An Indian army convoy moves towards the border in Pangong, a disputed territory between India and China, on August 5, 2012 in Ladakh, Indian-administered Kashmir. (Photo by Yawar Nazir/Getty Images)

नई दिल्ली : सीमा विवाद में चीन ज़रा भी नरमी बरतने को तैयार नही है. इस बीच चीन ने भारत को कड़ा सबक सिखाने की चेतावनी दी है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि अगर भारत नहीं मानता है तो चीन के पास सेना को इस्तेमाल करने के अलावा कोई रास्ता नही बचेगा. इस अख़बार ने भारत का हाल 1962 से भी ज्यादा बुरा करने की धमकी भी दी है.

इंडिया डॉट कॉम की खबर के मुताबिक अखबार की टिप्पणी भारतीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली के बयान के बाद आई है. आपको बता दें कि रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा था कि 1962 के हालत और आज के हालत में काफी अंतर है. चीन ने भारत को उस समय का देश समझने की गलती नहीं करनी चाहिए.

रक्षा मंत्री से पहले आर्मी चीफ बिपिन रावत ने भी चीन और पाकिस्तान को धमकी दी थी. रावत ने कहा था कि हमारे जवान चीन और पाकिस्तान के साथ एक ही समय पर युद्ध लड़ने में सक्षम है. शायद इसी से बीजिंग बौखलाया हुआ है. ग्लोबल टाइम्स के संपादकीय में लिखा है कि जेटली ठीक कह रहे हैं कि 1962 और 2017 के भारत में काफी अंतर है, लेकिन अगर जंग हुई, तो भारत को ज्यादा नुकसान उठाना होगा.

संपादकीय में यह भी लिखा है की अगर भारत को सिक्किम क्षेत्र में बढ़ रहे तनाव को ख़त्म करना है तो उन्हें अपने जवानों को पीछे हटाना होगा. चीन उलटे ही भारतीय सेना पर घुसपैठ का आरोप लगा रहा है.

इस बीच ग्लोबल टाइम्स ने भारत में परिचालन कर रही चीन की कंपनियों को वहां चीन के खिलाफ बढ़ती भावना को लेकर भी सतर्क किया है. ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के बीच चीन की कंपनियों को वहां चीन विरोधी भावना से निपटने को कदम उठाने चाहिए.

अखबार में 2104 में वियतनाम में चीन विरोधी भावना का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि भारत में भी चीन के हितों पर हमला हो सकता है.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें