बीफ के बाद अब लग सकती है मोमोज पर रोक, ड्रग्स से भी ज्यादा खतरनाक बीजेपी से उठ रही है मांगे

बीफ के बाद अब लग सकती है मोमोज पर रोक, ड्रग्स से भी ज्यादा खतरनाक बीजेपी से उठ रही है मांगे

नई दिल्ली: बीफ के बाद अब देश भर में हो सकता है कि मोमोज के खिलाफ अभियान चले. धीरे धीरे सेहत के लिए खतरनाक मोमोज़ पर रोक लगाने की मांग उठने लगी है.  जम्मू-कश्मीर से बीजेपी के विधान परिषद सदस्य रमेश अरोड़ा मोमोज को बंद करवाना चाहते हैं. उनका कहना है कि मोमोज में कैंसर जनित मोनोसोडियम ग्लूटामेट या अजिनोमोटो पाया जाता है. मोमोज पर प्रतिबंध लगाने के लिए वह अभियान चला रहे हैं. मोमोज का अविष्कार नेपाल में हुआ है, लेकिन भारत में यह बहुत फेमस है. लगभग हर शख्स इसे खाना पसंद करते हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक अरोड़ा ने कहा कि मोमोज को कई बीमारियों का मूल कारण पाया गया है, जिसमें आंत का कैंसर भी शामिल है. वह पिछले कुछ महीनों से इस पर मुद्दे को उठा रहे हैं और कम से कम राज्य में मोमोज के बैन की मांग कर रहे हैं.

विधायक का कहना है कि चीनी भोजन में मोनोसोडियम ग्लूटामेट होता है, जिसे अजिनोमोटो के ब्रैंड नेम से बेचा जाता है, जो कि स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल होता है. अजिनोमोटो एक तरह का सॉल्ट है, जो कैंसर समेत कई बीमारियों का कारण है. यही नहीं यह एक छोटे से सिर दर्द को माइग्रेन में परिवर्तित करने के लिए जिम्मेदार है.

बीजेपी एमएलसी ने आगे कहा कि मेमोरी लॉस होने की समस्या के अलावा लगातार 2-3 साल तक इसका सेवन करने पर पेट का कैंसर होने का खतरा रहता है. हमने पाया है कि यह शराब और नशीली दवाओं से भी ज्यादा हानिकारक है. इसे लेकर उन्होंने हाल ही में राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बली भगत से मुलाकात की और मोमोज और चीनी स्ट्रीट फूड पर रोक लगाने की मांग की है. बता दें कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस कैंसर रिसर्च इंस्टीट्यूट ने 2007 में एक रिचर्स के बाद बताया था कि अजिनोमोटो से पेट का कैंसर होता है. साल 2004 में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने भी इसे असुरक्षित घोषित किया था.

 

आइये आपको बताते हैं कि मोमोज से होने वाले नुकसान क्या हैं

– सिर दर्द, पसीना आना और चक्कर आने जैसी खतरनाक बीमारी आपको अजीनोमोटो से हो सकती है. अगर आप इसके आदि हो चुके हैं और खाने में इसको बहुत प्रयोग करते हैं तो यह आपके दिमाग को भी नुकसान कर सकता है.

– इसको खाने से शरीर में पानी की कमी हो सकती है. चेहरे की सूजन और त्वचा में खिंचावमहसूस होना इसके कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं.

– इसका ज्यादा प्रयोग से धीरे धीरे सीने में दर्द, सांस लेने में दिक्कत और आलस भी पैदा कर सकता है. इससे सर्दी-जुखाम और थकान भी महसूस होती है. इसमें पाये जाने वाले एसिड सामग्रियों की वजह से यह पेट और गले में जलन भी पैदा कर सकता है.

– पेट के निचले भाग में दर्द, उल्टी आना और डायरिया इसके आम दुष्प्रभावों में से एक हैं.

– अजीनोमोटो आपके पैरों की मासपेशियों और घुटनों में दर्द पैदा कर सकता है. यह हड्डियों को कमज़ोर और शरीर द्वारा जितना भी कैल्शिम लिया गया हो, उसे कम कर देता है.

– उच्च रक्तचाप की समस्या से घिरे लोगों को यह बिल्कुल नहीं खाना चाहिए क्योंकि इससे अचानक ब्लड प्रेशर बढ़ और घट जाता है.

– व्यक्तियों को इससे माइग्रेन होने की समस्या भी हो सकती है. आपके सिर में दर्द पैदा हो रहा है तो उसे तुरंत ही खाना बंद कर दें.

– अजीनोमोटो की उत्पादन प्रक्रिया भी विवादास्पद है : कहा जाता है कि इसका उत्पादन जानवरों के शरीर से प्राप्त सामग्री से भी किया जा सकता है.

-अजीनोमोटो बच्चों के लिए बहुत हानिकारक है. इसके कारण स्कूल जाने वाले ज्यादातर बच्चे सिरदर्द के शिकार हो रहे हैं.  एमएसजी युक्त डाइट बच्चों में मोटापे की समस्या का एक कारण है. इसके अलावा यह बच्चों को भोजन के प्रति अंतिसंवेदनशील बना सकता है. मसलन, एमएसजी युक्त भोजन अधिक खाने के बाद हो सकता है कि बच्चे को किसी दूसरी डाइट से एलर्जी हो जाए. इसके अलावा, यह बच्चों के व्यवहार से संबंधित समस्याओं का भी एक कारण है