एक हिन्दू महिला 19 साल से रमज़ान में करा रही है रोज़ा इफ्तार

एक हिन्दू महिला 19 साल से रमज़ान में करा रही है रोज़ा इफ्तार




नई दिल्ली: इस देश के लोगों को बांटने और लड़ाने की कोशिशें लगातार चलती रहती हैं लेकिन देश का गंगा जमुनी ताना बाना इतना मजबूत है कि फर्क नहीं पड़ता. किरण शर्मा भी एक ऐसी एक सख्शियत हैं. वैसे तो रमजान में आम तौर पर मुसलमान ही रोजा और इफ्तारी करते हैं लेकिन कुछ ऐसे हिन्दू भी हैं जो दूसरों के लिए इफ्तारी का इंतजाम करते हैं. किरण उनमें से एक हैं.

हजरत निजामुद्दीन दरगाह परमत्था टेकने आते हैं लेकिन इस बीच कुछ ऐसे भी लोग हैं जो अपने खर्चे पर जरूरतमंदों को रोजा-इफ्तार करा रही हैं. वह बीते 18 बरस से हजरत निजामुद्दीन की दरगाह पर माथा टेकने आती हैं. वह कहती हैं कि अल्लाह के दरबार में उनकी हर दुआ कबूल हुई है. हुआ कुछ ऐसा कि किरण शर्मा और उनके बेटी एक हादसे का शिकार हो गई थीं.

उनकी बेटी के बचने की उम्मीद बहुत कम थी. उन्होंने हजरत निजामुद्दीन औलिया से अपनी बेटी के स्वस्थ होने की दुआ मांगी. आज उस वाकये को 19 साल हो गए हैं और उनकी बेटी एकदम ठीक हैं. ऐसे में वह हर साल रमजान के माह में यहां आती हैं और लोगों को रोजा-इफ्तार कराती हैं.

देश भर में अल्लाह के बंदे रोजाना रोजा रखते है और अल्लाह के दरबार में आकर नमाज अदा कर अपना रोजा इफ्तार करते हैं. रमज़ान के पाक महीने में यहां की रौनक कुछ और होती है. दरगाह के चीफ इन चार्ज अफसर निजामी का कहना है कि रोजाना यहां कई लोग आते हैं. इन लोगों में हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी शामिल होते हैं. यहां किरण शर्मा भी अपनी ओर से एक खूबसूरत कोशिश करती नजर आती हैं.

दरगाह के चीफ अफसर निजामी का कहना है कि यहां रोजा इफ्तार करने हर कोई आता है. वे कहते हैं कि राजनीति अलग चीज है. यह हिंदू-मुस्लिम को बांटने का काम कर रही है. मगर वे फिर भी हिंदू-मुस्लिम एकता की बात करते रहते हैं. किरण शर्मा भी पिछले 18 सालों से रोजा-इफ्तार आयोजित कर कुछ ऐसी ही कोशिश कर रही हैं. वे ऐसे में दुआ करने की बात कहते हैं जिससे देश भर में एकता और सामंजस्य बना रहे.