VIRAL: बीजेपी नेताओं को डांटती लेडी सिंघम के वायरल वीडियो का सच

लखनऊ : जब से यूपी में बीजेपी की सरकार बनी है पार्टी कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी भी आसमान पर है. आगरा में थाने पर हमले की खबर ज्यादा पुरानी नहीं हैं. पार्टी कार्यकर्ता पुलिस को अपना गुलाम समझ रहे हैं और पुलिस के ज्यादातर अफसर इसपर चुप रहने में ही भलाई समझ रहे हैं लेकिन बुलंद शहर की इस इंस्पेक्टर ने गुंडाराज का मुंह तोड़ जवाब दिया.

मामला बुलंदशहर का है, यहां ट्रैफिक रूल तोड़ने पर पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ता का चालान काट दिया. आरोप है कि इसके बाद अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं ने महिला CO श्रेष्ठा शर्मा से बदसलूकी की. इतना ही नहीं, जिन कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ा था, उन्हें भी कोर्ट परिसर से छुड़ाने की कोशिश की गई. कार्यकर्ताओं ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी भी की.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिले के स्याना कस्बे में बीजेपी की जिला पंचायत सदस्य के पति प्रमोद लोधी का ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन में पुलिस ने चालान काटा था. चालान काटे जाने के बाद प्रमोद पुलिस से भिड़ गया. बात हाथापई तक पहुंच गई. जिसके बाद पुलिस ने बाइक को सीज कर प्रमोद को गिरफ्तार कर लिया.

प्रमोद को जब कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया तब बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता वहां पहुंच गए और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की गई. कार्यकर्ताओं और महिला CO के बीच भी जमकर बहस हुई. कार्यकर्ताओं का आरोप था कि पुलिस बीजेपी से जुड़े ही लोगों के खिलाफ कार्रवाई करती है और ट्रैफिक नियमों के नाम पर घूसखोरी की जाती है. हालांकि सीओ ने इन आरोपों की सिरे से नकार दिया. महिला CO ने मीडिया को बताया, “मामला चालान का था. प्रमोद के पास पूरे दस्तावेज नहीं थे. पहले उन्होंने मेरे साथ बदतमीजी की. इसके बाद दूसरे पुलिस अधिकारियों के साथ भी बदसलूकी की गई

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें