VIDEO: हैक होते-होते बची भारतीय EVM, एन वक्त पर पीछे हट गई कंपनी, अफ्रीका पहुंचे सौरभ भारद्वाज

VIDEO: हैक होते-होते बची भारतीय EVM, एन वक्त पर पीछे हट गई कंपनी, अफ्रीका पहुंचे सौरभ भारद्वाज




बोत्सवाना: चुनाव आयोग ही नहीं ईवीएम बनाने वाली कंपनी भारत इलैक्ट्रिकल्स अफ्रीका में भी ईवीएम हैकिंग से भाग चुकी है. बोत्सवाना में वो मुख्य विपक्षी पार्टी बोत्सवाना कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष दो मिलांग से जब सौरभ भारद्वाज मिले तो उन्होंने बताया कि EVM हैक करने को लेकर वहाँ के चुनाव आयोग ने हैकाथान बुलाया था. ये हैकाथान 8 मई को होना था. लेकिन EVM सप्लाई करने वाली भारतीय कंपनी ने इससे हाथ खींच लिए.

गौरतलब है कि बोत्सवाना में EVM भारत इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड ही सप्लाई करने वाली है. इसके बाद सवाल उठा कि एक ही कंपनी से मशीन की खरीदारी क्यों? बोत्सवाना ने फैसला किया कि वो चाहते थे कि दुनिया में कोई भी आए और मशीनों को हैकिंग करके दिखाए. उन्होंने मीडिया कंपनियों और आईटी एक्सपर्ट को बुलाया लेकिन भारत इलैक्ट्रॉनिक्स ने कहा कि वो इसमें हिस्सा लेने को तैयार नहीं है. वो इसके नाम से भाग खड़ी हुई है.

विपक्षी दलों ने दबाव बनाया कि एक ही कंपनी से मशीन न खरीदी जाए और दूसरा की हैकाथॉन के जरिए पहले चैक किया जाए कि मशीनें ठीक काम करती हैं या इनमें गड़बड़ी है.

बोस्तवाना में ईवीएम पर बवाल इसलिए भी छिड़ा क्योंकि भारत इलैक्ट्रॉनिक्स को ही वहां की सरकार ने बुलाया था. विपक्ष ने कहा कि ऐसी एक ही कंपनी को क्यों मौका दिया गया.

दिल्ली में आम आदमी पार्टी के विधायक सौरभ भरद्वाज इसी सवाल का जवाब ढूँढने बोत्सवाना पहुँच गए. वोत्सवाना में पेपर वैलेट छोड़कर वहां चुनाव आयोग ईवीएम इस्तेमाल करने जा रहा था.