दिल्ली के चिल्ड्रन्स होम में बच्चियों को जवान बनाने वाले इंजेक्शन, केजरीवाल की सरकार चलाती है होम

दिल्ली के चिल्ड्रन्स होम में बच्चियों को जवान बनाने वाले इंजेक्शन, केजरीवाल की सरकार चलाती है होम

नई दिल्ली: दिल्ली महिला आयोग ने चिल्ड्रन होम में गड़बड़ियां पाए जाने पर संचालकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है. शिकायत में नाबालिग लड़कियों को अनजानी दवाइयों के इंजेक्शन लगाने और विरोध करने पर मारपीट का आरोप लगाया गया है. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद के निरीक्षण के दौरान 32 लड़कियों ने चिल्ड्रन होम के स्टाफ के खिलाफ लिखित में शिकायत दी थी.

नाबालिग लड़कियों ने स्वाति जयहिंद को दी गई लिखित शिकायत में बताया कि उनके शरीर के हिस्सों को बड़ा करने के लिए उन्हें इंजेक्शन (ऑक्सीेटॉसिन) दिए जाते हैं. इतना ही नहीं, लड़कियों ने बताया कि उनके पीरियड का पता लगाने के लिए जबरन उनके कपड़े उतरवाए जाते हैं, उसके बाद ही उन्हें सैनेटरी पैड दिया जाता है.

आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने निर्मल छाया कॉंपलेक्स स्थित चिल्ड्रन होम में रहने वाली लड़कियों की शिकायत पर औचक निरीक्षण किया था. पीड़ित लड़कियों की शिकायत में चिल्ड्रन होम में कई तरह खामियां बताई गईं. वहां सीधे-सीधे मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा था.

आयोग की अध्यक्ष ने निरीक्षण के दौरान पाया कि 140 लड़कियों का खाना बनाने के लिए सिर्फ एक कुक रखा गया है. चिल्ड्रन होम में खाने की क्वालिटी बेहद निम्न स्तर की थी. निरीक्षण के दौरान स्वाति जयहिंद ने देखा कि कुछ बच्चियां अपना खाना खुद बना रही थीं. शिकायत मिलने के बाद जयहिंद ने डब्ल्यूसीडी डिपार्टमेंट के निदेशक को समन किया.

इसके बाद स्वाति जयहिंद पुलिस कमिश्नर से मिली और उन्हें इस बारे में बताया. कमिश्नर के आदेश के बाद हरि नगर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई. पुलिस ने आपराधिक षड़यंत्र रचने, जहर देकर नुकसान पहुंचाने के मामलों की धाराओं के तहत केस दर्ज किया है.
स्वाति ने जल्द चिल्ड्रन होम पर पाबंदी लगाए जाने की मांग की है. साथ ही उन्होंने दिल्ली पुलिस से भी जल्द इस केस में जांच पूरी करने का आग्रह किया है.