कपिल मिश्रा की केजरीवाल मंत्रिमंडल से छुट्टी, कल करेंगे धमाका?

कपिल मिश्रा की केजरीवाल मंत्रिमंडल से छुट्टी, कल करेंगे धमाका?

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार के जल मंत्री कपिल मिश्रा की छुट्टी हो गई है. मोदी पर निशाना साधने और ईवीएम पर आरोप लगाने के केजरीवाल के कदम से कपिल मिश्रा खुश नहीं थे और सरे आम मोदी के समर्थन में बयानबाज़ी कर रहे थे . इससे पहले कुमार विश्वास के साथ मिलकर भी उन्होंने आम आदमी पार्टी (आप) के नेताओं पर हमले किए थे.

कपिल मिश्रा की जगह राजेन्द्र पाल गौतम और कैलाश गहलौत में से कोई ले सकता है. इन दोनों को पार्टी में शामिल किया गया है. खुद को हटाए जाने के बाद कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया कि वो कल दिल्ली जल बोर्ड के वाटर टैंक घोटाले पर नया खुलासा करेंगे.

इससे पहले पार्टी से निलंबित किए गए विधायक अमानतुल्ला खान को विधानसभा की समितियों में अहम जिम्मेदारी सौंपी गई है. आप के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास के खिलाफ टिप्पणी करने के आरोप में खान को पार्टी से बुधवार को निलंबित किया गया था. वहीं कुमार विश्वास के करीबी विधायकों को विधानसभा की किसी भी अहम समिति में नहीं रखा गया है. इसके बाद कुमार विश्वास ने एक ट्वीट करके फिर पार्टी के सीएम अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है.

कुमार विश्वास ने ट्वीट करके कहा है कि अगर तू दोस्त है तो फिर ये ख़ंजर क्यूँ है हाथों में, अगर दुश्मन है तो आख़िर मेरा सर क्यूँ नहीं जाता? इस ट्वीट को केजरीवाल पर प्रहार माना जा रहा है क्योंकि कुछ दिनों पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके कहा था कि विश्वास मेरे छोटे भाई जैसे हैं.
वहीं विधानसभा के सचिव प्रसन्न कुमार सूर्यदेवरा द्वारा साल 2017-2018 के लिए विधानसभा की समितियों के पुर्नगठन के लिए जारी आदेश में ओखला से विधायक अमानतुल्ला खान को छह समितियों में जगह दी गई है.

कुमार विश्वास के खेमे में दिखाई देने वाली भावना गौड़, सोमनाथ भारती और अलका लांबा जैसे विधायकों का कद घटा दिया गया है. साथ ही प्रीवलेज कमेटी के चेयरमैन रहे सोमनाथ भारती को भी यहां से हटा दिया है. इसके साथ ही निजी सदस्य बिल एवं प्रस्ताव कमेटी से विधानसभा ने सोमनाथ भारती को बाहर कर दिया है.

आपको बता दें कि कमेटियों की लिस्ट 4 मई को तैयार की गई है, जबकि पार्टी ने तीन मई को आमानतुल्ला खान को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था क्योंकि उन्होंने पार्टी के नेता कुमार विश्वास पर कई गंभीर आरोप लगाए थे.

इन कमेटियों को एक साल के लिए बनाया जाता है. दिल्ली विधानसभा में 21 कमेटियां बनाई जाती हैं. सभी के गठन का कार्य पूरा हो चुका है. इसमें 3 कमेटियों के लिए विधायक चुनाव करते हैं, जबकि 18 कमेटियां में नाम दिल्ली विधानसभा तय करती है.

अमानतुल्ला ने कुमार विश्वास पर आरोप लगाया था कि वे बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे हैं, जिसके बाद कुमार विश्वास ने नाराज हो गए थे और बाद में अमानतुल्ला को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था. वहीं विश्वास को राजस्थान का प्रभारी नियुक्त किया गया.