एक तो स्कूलों की मनमानी दूसरा डीएम का रवैया, सड़कों पर उतर पड़े पेरेन्ट्स

एक तो स्कूलों की मनमानी दूसरा डीएम का रवैया, सड़कों पर उतर पड़े पेरेन्ट्स




गाजियाबाद: प्राइवेट स्कूलों की मनमानी के खिलाफ लंबे समय़ से चल रहे पेरेन्ट्स के प्रदर्शन के बीच बुधवार को सभी का गुस्सा फूट पड़ा. डीएम ने पहले सोमवार को मिलने से इंकार करने के बाद बुधवार को मीटिंग के लिए बुलाया था. सुबह तय समय पर बड़ी संख्या में पेरेन्ट्स जिला मुख्यालय पर पहुंचे, लेकिन डीएम ने मीटिंग से इंकार कर दिया और हर स्कूल के दो पेरेन्ट्स से मुलाकात करने की बात कही. इस पर पेरेन्ट्स भड़क उठे. उन्होंने कहा कि ये सभी की समस्या है किन्हीं दो की नहीं.

इसके बाद जब प्रशासन नहीं माना तो उन्होंने नारेबाजी करनी शुरू कर दी. नाराज पेरेन्ट्स ने कलेक्ट्रेट के बाहर हापुड़-दिल्ली रोड पर जाम लगा दिया. दोनों तरफ से सड़क पर पेरेन्ट्स के प्रदर्शन करने की वजह से हापुड़ चुंगी तक लंबा जाम लग गया. पुलिस प्रशासन के भीड़ को सड़क से हटाने में पसीने छूट रहे हैं.

फिलहाल कविनगर इंस्पेक्टर हेमंत राय और सीओ मनीष मिश्रा पेरेन्ट्स को समझाने-बुझाने की कोशिश में लगे हुए हैं. पेरेन्ट्स ने भी कड़ा विरोध करते हुए अपना रुख साफ कर दिया है कि अगर प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ नकेल नहीं कसी गई तो बड़े स्तर पर हर जगह विरोध किया जाएगा.

डीएम ने किया मिलने से इंकार

पैरेट्स राजीव शर्मा ने बताया कि पेरेन्ट्स की नाराजगी और प्रदर्शन के बाद जिला प्रशासन ने उन्हें 26 अप्रैल को दुबारा बैठक में बुलाया है. इससे पूर्व 18 अप्रैल को पेरेन्ट्स और स्कूल प्रबंधन के बीच एडीएम फाइनेंस ने बैठक ली थी. अब दोबारा से सभी के आने पर डीएम ने मिलने से इंकार कर दिया गया. डीएम की तरफ से तर्क दिया गया है कि एक स्कूल के सिर्फ दो पेरेन्ट्स से मुलाकात की जाएगी, जबकि हजारों पेरेन्ट्स की एक ही समस्या है. जिस पर प्रशासन हाथ खड़े कर रहा है. ऐसे में पेरेन्ट्स किसके सामने शिकायत रखेंगे.