रेलवे के अफसर ने झुठलाया मोदी का दावा, कहा- कानपुर रेल हादसे के पीछे पाकिस्तान नहीं

नई दिल्ली: इससे ज्यादा अफसोसनाक क्या हो सकता है कि देश का प्रधानमंत्री एक मामले को आतंकवादी घटना बताए और उसी से जुड़े हुए अफसर उसके दावे को झुठला दें. आप मानें या न मानें लेकिन कानपुर रेल हादसे के मामले में प्रधानमंत्री मोदी ने कल कानपुर चुनाव रैली में जो कहा था वो झूठा निकला.
प्रधानमंत्री ने कहा था कि कानपुर में हुआ रेल हादसा आतंकवादी घटना थी और हादसे को जानबूझकर अंजाम दिया गया था. मोदी ने कहा था कि सरहद के पार बैठे लोगों ने इस साजिश को अंजाम दिया. पीएम मोदी ने बाकायदा ये बयान यूपी की एक चुनाव रैली में दिया था . द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश रेलवे पुलिस ने एक सुरेश प्रभु द्वारा आयोजित एक वीडियो कांफ्रेंस में इस बयान को गलत बताया. उन्होंने कहा कि इस हादसे के पीछे कोई साजिश और तोड़ फोड़ जैसा कारण नहीं था. इस हादसे में 153 लोग मारे गए थे 250 से ज्यादा घायल हुए थे. मोदी ने दावा किया है कि ये पाकिस्तान का काम था.
रेल्वे के सुरक्षा से जुड़े डायरेक्टर जनरल गोपाल गुप्ता ने इस कांफ्रेंस में शामिल अफसरों और अन्य लोगों से कहा कि इंदौर पटना एक्सप्रेस के 14 कोच के पटरी से उतरने के पीछे अगर कोई कारण था तो रेल्वे ट्रैक की खस्ता हालत थी. उन्होंने कहा कि दुर्घटना की जगह पर किसी भी तरह के विस्फोटक नहीं पाए गए थेय
द हिंदू ने सूत्रों के हवाले से कहा कि जब गुप्ता ये बयान दे रहे थे रेल मंत्री सुरेश प्रभु मौजूद नहीं थे लेकिन ये बयान रिकॉर्ड में दर्ज है. हिंदू के संवाददाता से बातचीत में गोपाल गुप्ता ने कहा कि वो कांफ्रेंस में थे हालांकि उन्होंने अंदर की कोई जानकारी संवाददाता को नहीं दी. हालांकि गुप्ता ने कहा कि हमने शुरुआती जांच की थी अब एनआईए इस मामले को देख रहा है.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें