जब निर्वस्त्र युवती पहली मंज़िल से कूदकर भागी

नई दिल्ली: पांडव नगर में दरिंदगी की सारी हदों को पार करते हुए एक इंजीनियर ने अपने चार साथियों के साथ युवती को फ्लैट में बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म किया. विरोध करने पर आरोपियों ने पीड़िता को निर्वस्त्र अवस्था में बाथरूम में बंद कर दिया. वह रात भर मदद के लिए चिल्लाती रही.
सुबह मौका मिला तो उसने फ्लैट की पहली मंजिल से छलांग लगा दी. किसी तरह ऑटो से थाने पहुंची पीड़िता को पुलिस ने लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में भर्ती कराया.
बाद में उसकी शिकायत पर सामूहिक दुष्कर्म, कुकर्म, मारपीट और जान से मारने की धमकी का मामला दर्ज कर इंजीनियर और उसके चारो साथियों को गिरफ्तार कर लिया. अन्य चारों आरोपी नोएडा में एक बीपीओ में काम करते हैं.
उनकी पहचान नवीन देशमुख, प्रतीक कुमार, विकास मेहरा, सर्वजीत और लक्ष्य के रूप में हुई है. 28 वर्षीय नेपाली मूल की पीड़िता परिवार के साथ मुनिरका में रहती है. उसके दो बच्चे हैं. पांडव नगर में रहने वाले नवीन देशमुख की उससे जान-पहचान थी. शनिवार शाम घुमाने की बात कर नवीन धोखे से उसे फ्लैट पर ले आया.
यहां चार दोस्त प्रतीक, विकास मेहरा, सर्वजीत और लक्ष्य पहले से मौजूद थे. आरोपियों ने युवती को फ्लैट में बंधक बना लिया. सभी ने पहले शराब पी और जान से मारने की धमकी देकर दुष्कर्म किया. एक आरोपी ने अप्राकृतिक यौनाचार भी किया.
इसके बाद उसे बाथरूम में बंद दिया. रविवार सुबह करीब 5:30 बजे पीड़िता पहली मंजिल से नीचे कूद गई. उसके दोनों पैर में चोट आई है. वह ऑटो से पांडव नगर थाने पहुंची तो पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया. मामला दर्ज कर पुलिस ने पांचों को अलग-अलग जगह से गिरफ्तार कर लिया. आरोपियों को कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें