योगी सरकार ने निकाल लीं आईपीएस की पर्सनल फाइलें, कल आवाज उठाने पर किया था सस्पेंड

योगी सरकार ने निकाल लीं आईपीएस की पर्सनल फाइलें, कल आवाज उठाने पर किया था सस्पेंड

पटना: आरएसएस का अंदाज़ बेहद आक्रामक और सख्त रहता है. उसके लोगों के खिलाफ मुंह खोलने का मतलब है ज़िंदगी भर के लिए मुंह बंद कर देना. यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी हिमांशु कुमार ने कल योगी सरकार के जात देखदेख कर तबादले करने के अंदाज़ पर सवाल उठाया आज उसे सस्पेंड कर दिया गया यहां तक तो ठीक है अब इस अफसर की जन्मकुंडली भी बाहर निकल आई है.

कहा जा रहा है कि  ये अधिकारी हिमांशु बिहार का फरार आरोपी है. हिमांशु पर उनकी पत्नी प्रिया सिंह ने पटना के महिला थाने में दहेज प्रताड़ना और मानसिक शोषण करने का आरोप लगाया था. जैसे ही ये मामला उठा इस आरोप की फाइलें सरकार के पास पहुंच गईं.

यूपी कैडर के आईपीएस अफसर हिमांशु मुल रूप से बिहार के मोतिहारी के रहने वाले हैं. इनकी पत्नी प्रिया सिंह पटना की रहने वाली है. इन दोनों की 2014 में शादी हुई थी. लेकिन शादी के कुछ दिनों के बाद ही प्रिया ने मार्च 2015 में हिमांशु पर दहेज प्रताड़ना और मानसिक रूप से शोषण करने का आरोप लगाया था. हिमांशु की पत्नी प्रिया सिंह पटना की रहने वाली है.

इस मामले पर आईपीएस हिमांशु ने ट्वीट कर बताया था कि उसकी पत्नी 10 करोड़ रुपए के लिए ब्लैकमेल कर रही है. ये मामला आनन फानन में बाहर निकाल लिया गया  सस्पेंड होने की सूचना मिलने के बाद उन्होंने अपने ट्वविटर अकाउंट पर लिखासत्य की जीत होती है. 2010 बैच के आईपीएस अधिकारी हिमांशु कुमार फिलहाल डीजी ऑफिस से जुड़े हुए हैं.

कुछ दिन पहले ही एसपी फिरोजाबाद के पद से इनका ट्रांसफर डीजी ऑफिस में कर दिया गया था. सोशल मीडिया सेल कह क रही है कि पत्नी की शिकायत पर सस्पेंड किया गया जबकि यूपी पुलिस ने बताया कि हिमांशु को अनुशासनहीनता के लिए बर्खास्त किया गया है.