2019 चुनाव से पहले हिंदू मुस्लिम तनाव को चरम पर ले जाने की कोशिश, वायरल वीडियो में सबूत

2019 चुनाव से पहले हिंदू मुस्लिम तनाव को चरम पर ले जाने की कोशिश, वायरल वीडियो में सबूत




नई दिल्ली: कल्पना कीजिए कि आपके इलाके में कहीं धार्मिक भगवा झंडियां लगी हों और अचानक एक जुलूस आए और अल्लाहो अकबर के नारे लगाते हुए उन झंडों को उतारकर फेंक दे. अगर आप हिंदू हैं तो इस लाइन को पढ़कर आप कल्पना कर सकते हैं कि इस हादसे के बाद मुसलमानों पर क्या गुजरी होगी. उत्तर प्रदेश में नई सरकार आते ही एक के बाद एक सांप्रदायिक घटनाएं सामने  रही हैं. कल मेरठ नगर निगम में भारत में रहना है तो वंदेमातरम कहना होगा के नारे लगे और चुने हुए पार्षदों को धर्म विरुद्ध आचरण करने को मजबूर किया गया तो सुल्तानपुर में इस्लामिक झंडों को बाकायदा जुलूस की शक्ल में गई एक भीड़ ने उतार फेंका. ये लोग बाबर की औलादों जैसे भड़काऊ नारे लगा रहे थे.  ऐसा लगता है कि योगी ताजा मामला सुल्तानपुर में इस्लामिक झंडों को लेकर है.

सुल्तानपुर से 20 किलोमीटर दूर कूड़ेभार बाज़ार में इस्लामिक झंडे हटाने का मामला सामने आया है. एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें सड़क पर लगे साइन बोर्ड पर चढ़कर लोग इस्लामिक झंडे उतार रहे हैं. इस्लामिक झंडा उतारने वाले ‘जय श्री राम’ का नारा लगाते हुए कैमरे में कैद हुए.

बताया जा रहा है कि झंडा उतारने वाले हिंदू युवा वाहिनी के सदस्य हैं.सोशल मीडिया के हवाले से आजतक चैनल ने ये वीडियो प्रकाशित किए हैं. हालांकि आजतक ने इनकी पुष्टि करने से इनकार भी किया है. वीडियो में साइन बोर्ड के ऊपर कई इस्लामिक झंडे लहराते दिख रहे हैं. दरअसल ये वीडियो सोशल साइट पर अपलोड किया गया था, जो अब वायरल हो गया है. ‘

वीडियो में झंडा हटाने वाले लोग केसरिया झंडे से सजे काफिले में शामिल हैं. ये लोग लगातार नारेबाजी करते जा रहे हैं और तभी इनमें से कुछ साइन बोर्ड पर चढ़कर झंडे उतारने लगते हैं.