सिर्फ देवबंद ही नहीं, कई मुस्लिम सीटों पर बीजेपी ने किया हाथ साफ

सिर्फ देवबंद ही नहीं, कई मुस्लिम सीटों पर बीजेपी ने किया हाथ साफ

नई दिल्ली: जहां ईवीएम में गड़बड़ी की बात हो रही है वहीं तो कई ऐसी सीटों के नाम आ रहे हैं जो मुसलमानों की बहुतायत वाली थीें लेकिन बीजेपी की झोली में गईं.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में ऐतिहासिक जीत दर्ज करने वाली भाजपा ने कई मुस्लिम बहुल सीटों पर भी जीत हासिल की है. जब इन सीटों की बात होती है तो देवबंद का नाम सबसे ऊपर आता है, जहां से भाजपा उम्मीदवार ब्रजेश ने क़रीब तीस हज़ार वोटों से जीत हासिल की है.

लेकिन देवबंद अकेली सीट नहीं है. हम बात उससे ही शुरू करते हैं.

इस सीट पर दूसरे नंबर पर बहुजन समाज पार्टी के माजिद अली रहे जिन्होंने 72,844 मत हासिल किए जबकि तीसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी के माविया अली रहे जिन्होंने 55,385 मत हासिल किए.

इसके अलावा मुरादाबाद नगर सीट भी भाजपा की झोली में आई.

यहां से समाजवादी पार्टी के मौजूदा विधायक यूसुफ़ अंसारी को भाजपा के रीतेश कुमार गुप्ता ने क़रीब बीस हज़ार वोटों से हराया.

इस सीट पर तीसरे नंबर पर बसपा के अतीक़ सैफ़ी रहे जिन्होंने 24,650 वोट हासिल किए.

मुरादाबाद की ही मुस्लिम बहुल कांठ सीट पर भाजपा के राजेश कुमार चुन्नू ने 76,307 वोट लेकर सपा के अनीसुर्रहमान को 2348 मतों से हराया.

इस सीट पर तीसरे नंबर पर बसपा के मोहम्मद नासिर रहे जिन्हें 43,820 मत मिले.

रुझानों में शुरुआती बढ़त मिलने के बाद बीजेपी कार्यकर्ता खुशी में अबीर गुलाल खेलते हुए.

फ़ैज़ाबाद की रुदौली सीट से भाजपा के रामचंद्र यादव ने सपा के अब्बास अली ज़ैदी को क़रीब तीस हज़ार वोटों से हराया.

इस सीट पर बहुजन समाजवादी पार्टी के फ़िरोज़ ख़ान उर्फ़ गब्बर ने 47 हज़ार से अधिक मत हासिल किए.

शामली ज़िले की थाना भवन सीट से भाजपा के सुरेश कुमार ने 90,995 मत पाकर 74,178 पाने वाले बसपा के अब्दुल वारिस ख़ान को हराया.

इस सीट पर दूसरे नंबर पर राष्ट्रीय लोकदल के जावेद राव रहे जिन्होंने 31,275 मत हासिल किए.

उतरौला सीट से भाजपा के राम प्रताप ने 85,240 वोट पाकर 56,066 मत पाने वले सपा के आरिफ़ अनवर हाशमी को हराया.

इस सीट पर बहुजन समाज पार्टी के परवेज़ अहमद 44,799 वोट पाकर तीसरे नंबर पर रहे.