होली पर नवाज शरीफ ने आडवाणी को क्यों याद किया?

होली पर नवाज शरीफ ने आडवाणी को क्यों याद किया?

इस्लामाबाद: सांप्रदायिकता राजनीति में बड़ा नफा देती है लेकिन आखिरकार सभी को स्वीकार करना पड़ता है कि इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा है कि जबरन धर्मांतरण और दूसरे धर्मों के पूजा स्थलों पर हमला करने को इस्लाम में अपराध माना गया है. शरीफ ने यह बात होली पर आयोजित एक समारोह के दौरान कही. उन्होंने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान किसी धर्म के खिलाफ नहीं है और यहां धर्म को लेकर कोई लड़ाई भी नहीं है.
होली पर हिंदुओं को शुभकामनाएं देते हुए नवाज ने कहा कि कौन स्वर्ग में जाएगा और कौन नर्क में, यह तय करना किसी का काम नहीं है बल्कि पाकिस्तान को धरती का स्वर्ग बनाना असली काम है. पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को संदेश देते हुए शरीफ ने कहा, ‘इस्लाम में हर इंसान को महत्व दिया गया है, चाहे वह किसी भी जाति, संप्रदाय या धर्म का हो. मैं यह साफ कहना चाहता हूं कि किसी का जबरन धर्मांतरण करवाना अपराध है और यह हमारा फर्ज है कि हम अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थलों की सुरक्षा करें.’
शरीफ ने आगे कहा कि पाकिस्तान में लड़ाई आतंकवादियों और ऐसे लोगों के बीच है जो देश की तरक्की चाहते हैं. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान में धर्म को लेकर कोई लड़ाई नहीं है. अगर कोई लड़ाई है तो वह आतंकवादियों, धर्म के नाम पर लोगों को गुमराह करने वालों, मासूम लोगों को मारने वालों और देश का विकास न चाहने वालों के खिलाफ है.’
सब कुछ नष्ट करने के बाद अब याद आ रहा है. ये सब दिखावा है एक आसिया बीबी को इस्लाम के बारे में कुछ अप शब्द कहने से जेल में डाल कर फांसी की सजा सुना दी है जिसने अपील पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट में की है.जो हिन्दुस्तान के मुसलमानों जो मुहाजिर कहलाते हैं उन पर जुल्म कर भेदभाव अभी तक रखते.
शरीफ ने स्वीकार किया कि कुछ लोगों ने धर्म के आधार पर लोगों को बांटने की कोशिश जरूर की है, पर पाकिस्तान में हर इंसान को अपना धर्म मानने की छूट है. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान इसलिए अस्तित्व में नहीं आया कि वह किसी धर्म के खिलाफ था. पाकिस्तान में किसी धर्म को छोटा या कम समझना गलत है. मैं ऐसा पाकिस्तान चाहता हूं जहां हर धर्म के लोगों के लिए समान अवसर हों और वे खुद को और अपने परिवार को एक अच्छी जिंदगी दे सकें. पाकिस्तान में सभी के लिए शांति और सुरक्षा हो.’
पाकिस्तान के ग्रामीण इलाकों में हिंदू महिलाओं के अपहरण और जबरम धर्मांतरण की घटनाएं होती रही हैं. हालांकि पिछले दिनों हिंदू महिलाओं के जबरन धर्मांतरण पर रोक लगाने के लिए पाकिस्तान में हिंदू मैरेज ऐक्ट पास किया गया था, लेकिन फिर भी ऐसी घटनाएं पूरी तरह रुकी नहीं हैं. शरीफ ने दावा किया कि 2013 के बाद से ऐसे मामलों में कमी आई है. शरीफ ने कहा कि वह कराची में हर जगह बिना किसी रुकावट के होली के जश्न को देखकर काफी खुश हैं. समारोह में किसी ने जब किसी शख्स ने मोहम्मद रफी के मशहूर गाने ‘बहारों फूल बरसाओ’ का जिक्र किया तो शरीफ ने बीजेपी नेता एलके आडवाणी को भी याद किया.