अखिलेश के कारण यज्ञ में पड़ा खलल, यज्ञ छोड़कर भागने को मजबूर हुए 251 पुरोहित

अखिलेश के कारण यज्ञ में पड़ा खलल, यज्ञ छोड़कर भागने को मजबूर हुए 251 पुरोहित

मिर्जापुर: सीएम अखिलेश यादव ने यहां चल रहे एक यज्ञ को रुकवा दिया. 251 लोग सहस्त्र चंडी यज्ञ को संपन्न करा रहे थे लेकिन सरकार के इशारे पर अफसरों ने दबाव डाला और अफसर भाग गए. यज्ञ का आयोजनशिवपाल यादव ग्रहदशा ठीक कराने के लिए 2 मार्च से विंध्याचल के मोतीझील में ये यज्ञ करा रहे थे. इस यज्ञ में काशी के दर्शनमुनि के साथ 251 पुरोहित भाग ले रहे थे, लेकिन इसमें खलल तब पड़ गया जब आयोजक पुरोहित सहित आखिरी दिन यज्ञ छोड़कर चले गए.

पारिवारिक कलह के चलते हाशिए पर चले गए पूर्व मंत्री शिवपाल के यज्ञ की खबर मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंचने के बाद पुलिस और प्रशासनिक अफसर चुनाव खत्म होने के बाद देर रात से ही सक्रिय हो गए.

इसका नतीजा यह हुआ कि पुरोहित गुरुवार को यज्ञ छोड़कर चले गए. यज्ञ मंडप से टेंट वाले सामान बटोर रहे थे जबकि यज्ञ की पूर्णाहुति गुरुवार को ही होनी थी.

सीएम अखिलेश यादव के चाचा और पूर्व मंत्री शिवपाल यादव वैभव प्राप्ति के लिए चंदौली जिले के कसवढ़ आश्रम के महंथ काशी के 251 पुरोहितों से सहस्त्र चण्डी महायज्ञ करा रहे थे.

किसी ने इसकी जानकारी मुख्यमंत्री कार्यालय को दे दी. बताया जा रहा है कि सीएम की मंशा को भांपते हुए अफसरों ने दबाव बनवाया तो यज्ञ के आयोजक पुरोहितों सहित खिसक गए.

यज्ञ के समापन के समय शिवपाल यादव को भी विंध्यधाम स्थित यज्ञ मण्डप में आना था, लेकिन गुरुवार को यज्ञ स्थल पर वीरानगी पसर गई.