ये क्या! कांग्रेस बन रही है मोदी के लिए खतरा, ये आंकड़े तो देखिए

नई दिल्ली:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने जब दिल्ली की गद्दी संभाली तो कहा गया कि जल्द ही भारत को कांग्रेस मुक्त कर दिया जाएगा . राज्यों के चुनावों के नतीजों से मोदी समर्थकों की खुशी भी बढ़ी. वो कहने लगे कि कांग्रेस मुक्त भारत का सपना साकार होता जा रहा है. हालांकि गहराई से जब इन नतीजों का विश्वेषण किया गया तो पता चला कि जब से मोदी आए हैं कांग्रेस लगातार आगे बढ़ रही है. इस रिपोर्ट में है इसकी असली वजह-

डाडा ड्रिवन वेबसाइट इंडिया स्पेंड के मुताबिक 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 1544 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ा (लोकसभा क्षेत्रों के अंतर्गत) और इन 10 राज्यों में उसे 194 पर ही जीत मिल सकी यानी उसकी सफलता की प्रतिशत महज 13 रहा.

हालांकि लोकसभा चुनाव के बाद इन राज्यों में जब विधानसभा चुनाव हुए तो कांग्रेस ने 1032 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे और इनमें से उसके 258 उम्मीदवार जीत भी गए, यानी उसकी सफलता का प्रतिशत 13 से बढ़कर 25 हो गया. सिर्फ सीटों की संख्या ही दोगुनी नहीं हुई बल्कि 2014 में इन राज्यों में जहां उसे 20 फीसदी वोट मिले तो विधानसभा चुनावों में 30 फीसदी वोट लेकर वो अपना प्रदर्शन सुधारने में सफल रही.

दरअसल 2014 के लोकसभा चुनावों के बाद अगर गोवा और मणिपुर जैसे छोटे राज्यों को छोड़ दिया जाए तो 10 प्रदेशों महाराष्ट्र, झारखंड, बिहार, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल, असम, उत्तर प्रदेश और पंजाब में विधानसभा चुनाव हुए हैं. इन राज्यों में कुल लोकसभा सीटों की 60 फीसदी सीटें यानी 543 में से 317 सीटें आती हैं.

हालांकि लोकसभा चुनाव के बाद इन राज्यों में जब विधानसभा चुनाव हुए तो कांग्रेस ने 1032 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे और इनमें से उसके 258 उम्मीदवार जीत भी गए, यानी उसकी सफलता का प्रतिशत 13 से बढ़कर 25 हो गया. सिर्फ सीटों की संख्या ही दोगुनी नहीं हुई बल्कि 2014 में इन राज्यों में जहां उसे 20 फीसदी वोट मिले तो विधानसभा चुनावों में 30 फीसदी वोट लेकर वो अपना प्रदर्शन सुधारने में सफल रही.

अगर वोट शेयर की बात करें तो कांग्रेस ने बिहार, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और पंजाब में लोकसभा चुनाव की तुलना में ज्यादा वोट हासिल किए. हालांकि कांग्रेस का ये कथित अच्छा प्रदर्शन बहुत कुछ उसके अलग-अलग पार्टियों के साथ गठबंधन का भी नतीजा रहा लेकिन ये भी नहीं कहा जा सकता कि अगर कांग्रेस अकेले चुनाव लड़ती तो उसका वोट शेयर इससे कम होता ही.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें