दिल्ली ने ली राहत की सांस, मेट्रो वैसे ही चलेगी , वैसे ही होंगे ये बाकी काम जानिए क्यों?

चंडीगढ़: जाट आंदोलनकारियों का आज का दिल्‍ली कूच टल गया है. जाट नेताओं ने सोमवार को होने वाले संसद घेराव का एलान भी वापस ले लिया है. ये दिल्ली और एनसीआर के लोगों के लिए राहत की खबर है क्योंकि दिल्ली और उसकी सीमाओं पर आंदोलन के कारण लोग परेशानी में थे. रविवार को मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल और जाट नेताओं के बीच वार्ता में संसद का घेराव टालने पर सहमति बनी. दिल्‍ली स्थित हरियाणा भवन में वार्ता के बाद मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल, जाट नेता यशपाल मलिक ने संयुक्‍त रूप से यह एलान किया. इस मौके पर केंद्रीय मंत्री बीरेंद सिंह भी मौजूद थे.

दो दिन पहले वार्ता में गतिरोध आने के बाद मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल और जाट नेताओं के बीच दिल्‍ली के हरियाणा भवन में वार्ता हुई. वार्ता के पहले चरण में  जाट नेताओं व सरकार के बीच दिल्ली कूच टालने पर सहमति बन गई. अब जाट 15 दिन तक दिल्ली कूच नहीं करेंगे. इसके बाद दूसरे चरण की वार्ता हुई.

वार्ता के बाद संयुक्‍त संवाददाता सम्‍मेलन में मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल और यशपाल मलिक ने कहा कि जाटों आंदोलनकारियाें की पांच मांगों पर सहमति हाे गई है. अन्‍य पर भी चर्चा हो रही है. मुख्‍यमंत्री ने लोगों से शांति बनाए रखने को कहा है.

वार्ता मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल अौर यशपाल मलिक के नेतृत्‍व में जाट नेताओं हुई. केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह और केंद्रीय न्‍याय एवं कानून राज्‍यमंत्री पीपी चौधरी भी वार्ता में मौजूद रहे.

वार्ता शुरू होने से पहले मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि जाट नेताओं से बृहस्‍पतिवार को वरिष्‍ठ मंत्री रामबिलास शर्मा के नेतृत्‍व वाली कमेटी से बातचीत में मांगों पर सहमति हो गई थी. इसके बाद कुछ गलतफहमी के कारण जाट नेताओं की उनसे (सीएम से) वार्ता नहीं हो पाई थी. अब सारी गलतफहमी दूर हो चुकी है और आज वार्ता हो रही है.

उन्‍होंने कहा कि सरकार जाटों की मांगों के प्रति पूरी तरह गंभीर है और उम्‍मीद है आज पूरे मामले का समाधान हो जाएगा. सरकार जाटों को आरक्षण दे चुकी है और हाई कोर्ट द्वारा लगई गई अंतरिम रोक को हटवाने के लिए पूरी मजबूती से पैरवी कर रही है.

दिल्ली में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक से बातचीत करने के लिए केंद्रीय इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह के हरियाणा भवन पहुंचने की सूचना है. मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी दिल्ली के हरियाणा भवन में मौजूद है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में जाने का कार्यक्रम रद कर दिया है. यशपाल मलिक ने उम्मीद जताई कि वार्ता के नतीजे आ सकते हैं.

रविवार सुबह माहौल में अचानक बदलाव हुआ और हरियाणा सरकार ने जाट नेताओं से वार्ता के लिए संपर्क किया. इसके बाद आज दिल्‍ली स्‍िथत हरियाणा भवन में वार्ता का फैसला हुआ. अखिल भारतीय जाट अारक्षण संघर्ष समिति के अध्‍यक्ष यशपाल मलिक ने भी मुख्‍यमंत्री के साथ वार्ता की पुष्टि की. उनका कहना था कि जाट नेता कभी वार्ता से पीछे नहीं हटे. सरकार ने ही अपने कदम पीछे खींचे थे.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें