सरकार के जीडीपी के आंकड़े भरोसे लायक नहीं. वर्ल्ड की टॉप रेटिंग एजेंसी ने उठाए सवाल

नई दिल्ली: दुनिया की टॉप रेटिंग रेटिंग एजेंसी ‘फिच रेटिंग्स’ ने भारत सरकार द्वारा जारी किए जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) के अग्रिम अनुमान पर विश्वास नहीं है. इन आंकड़ों में दिसंबर में खत्म हुई तिमाही में जीडीपी दर 7 फीसदी होने का अनुमान लगाया गया है. एजेंसी ने मंगलवार को कहा कि नोटबंदी के कारण वास्तविक सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हुई हैं, इसलिए सरकार का यह आंकड़ा वस्तुस्थिति से मेल नहीं खाता.

fitch ने अपने नवीनतम वैश्विक आर्थिक परिदृश्य (जीईओ) रिपोर्ट में कहा, ‘ये आंकड़े आश्चर्य में डालनेवाले हैं, क्योंकि नोटबंदी के बाद वास्तविक गतिविधियों के जो आंकड़े जारी किए गए हैं, उसमें मांग और सेवा गतिविधियों के कमजोर होने की बात कही गई है, ये मुख्यत: नकदी पर आधारित हैं. इसके विपरीत, आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि अक्टूबर-दिसंबर में निजी खपत में मजबूती आई थी (हालांकि सेवाओं के उत्पादन में काफी हद तक वृद्धि हुई है).’

रेटिंग एजेंसी ने कहा कि हो सकता है कि सरकार अनौपचारिक क्षेत्र पर पड़े नकारात्मक प्रभाव को दर्ज ही न कर पाई हो. fitch रिपोर्ट में कहा गया, ‘हालांकि, औपचारिक क्षेत्र भी आश्चर्यजनक रूप से मजबूत बना हुआ है. एजेंसी का कहना है कि साफ संभावना है कि कि शुरुआती अनुमानों में नोटबंदी के प्रभाव को कम करके आंका गया है. एजेंसी का कहना है कि इसलिए आगे जारी होनेवाले आधिकारिक आंकड़ों में संशोधन होने के पूरे चांसेज हैं.”फिच का मानना है कि वित्तवर्ष 2016-17 में देश की जीडीपी 7.1 रहेगी, जबकि वित्तवर्ष 17-18 और वित्तवर्ष 18-19 दोनों में यह 7.7 फीसदी रहेगी.

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने पिछले हफ्ते अनुमान लगाया था कि दिसंबर में समाप्त हुई तीसरी तिमाही में भारत का सकल घरेलू उत्पाद 30.28 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया है, जिसमें पिछली तिमाही में 7.3 फीसदी की तुलना में 7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है. 2015-16 की इसी तिमाही में देश ने 28.31 लाख करोड़ रुपये का जीडीपी दर्ज किया था. 2016-17 के पूरे वित्तवर्ष के लिए जीडीपी विकास दर का अनुमान 7.1 फीसदी लगाया गया है, जबकि वित्तवर्ष 2015-16 में यह 7.9 फीसदी थी. इस गिरावट के बावजूद सरकार की तरफ से कहा जा रहा है कि नोटबंदी का अर्थव्यवस्था पर कोई असर नहीं पड़ा है.

बस थोड़ा इंतज़ार..

ताज़ा खबरे सबसे पहले पाने के लिए सब्सक्राइब करें

KNockingNews की नयी खबरें सबसे पहले पाने के लिए मुफ्त सब्सक्राइब करें