स्कूली बच्चों को ड्रग्स पहुंचाने का रैकेट, रोज़ 2000 बच्चे लेते थे ड्रग्स, बच्चे ही थे सप्लायर

स्कूली बच्चों को ड्रग्स पहुंचाने का रैकेट, रोज़ 2000 बच्चे लेते थे ड्रग्स, बच्चे ही थे सप्लायर




नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे रैकेट का पर्दाफाश किया है, जो हर रोज़ 2000 बच्चों को ड्रग्स बेचता था. कई बच्चों को इस रैकेट से मुक्त कराया है. जो नशे का सामान बेचा करते थे.
दिल्ली पुलिस ने जब इस रैकेट को पकड़ा तो उन्हें अंदाजा भी नहीं होगा कि उनके हाथ आया रैकेट एक बड़ा गिरोह है.
जिसके जाल में कुछ बच्चे और अन्य लोग फंसे हुए थे. पुलिस ने शाहदरा जिले में छापे की कार्रवाई की
ये रैकेट कई लोगों को नशे की लत लगाकर अपना गुलाम बना चुका था.
दरअसल, दिल्ली की शहादरा जिला पुलिस ने पहले मुन्ना नामक एक शख्स को पकड़ा था, जो बरेली से ऑपरेट करने वाले एक गिरोह की मदद से सीमापुरी और न्यू सीमापुरी इलाके के बच्चों को ड्रग्स पहुंचाता था.
पुलिस को जांच में पता चला कि इस गिरोह के लिए ऐसे बच्चे भी काम करते थे, जो खुद नशे के आदि हो चुके थे.
इस रैकेट के लोग तकरीबन 2000 लोगों तक हर रोज नशे की पुड़िया पहुंचाया करते थे. इनमें से 18 लोगों को पुलिस ने रेस्क्यू कराया हैं, जिनमें से तीन नाबालिग बच्चे हैं.
पुलिस ने इस रैकेट के एक अहम सदस्य मुन्ना को तो गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन उसके दो साथी अभी फरार हैं.
पुलिस उनकी तलाश कर रही है. इस रैकेट के तार पड़ोसी राज्यों से भी जुड़े पाए गए हैं. पुलिस का मानना है कि एक दूसरा गैंग भी दिल्ली में सक्रिय है, जो युवाओं को नशे का सामान पहुंचा रहा है. पुलिस इस मामले में छानबीन कर रही है.