चुनाव के बीच बीजेपी पसंद नहीं कर रही ये वायरल वाट्सएप मैसेज, इस मैसेज की काट सोशल मीडिया सेल के पास भी नहीं

चुनाव के बीच बीजेपी पसंद नहीं कर रही ये वायरल वाट्सएप मैसेज, इस मैसेज की काट सोशल मीडिया सेल के पास भी नहीं

आजकल चुनाव सिर्फ रैलियों में ही नहीं लड़े जाते . वो सिर्फ टीवी पर भी नहीं लड़े जाते बल्कि सोशल मीडिया का रोल सबसे अहम हो चला है . कल तक जो अफवाहें बाज़ार में जुबानी फैलती थीं वो अब सोशल मीडिया पर फैलायी जा रही हैं. हाल में सबसे ज्यादा मजबूती से एक बात फैली वो थी कि पिछले 70 साल में भारत में कुछ हुआ ही नहीं. जाहिर बात है कि इससे सबसे ज्यादा नुकसान कांग्रेस को हो रहा था. अब प्रशांत किशोर की टीम ने इसका तोड़ निकाला है. वाट्सएप पर एक मैसेज तैयार किया गया है . इस मैसेज में 70 साल तक कांग्रेस के कुछ न करने के आरोप का जवाब है. ये मैसेज जमकर फॉर्वर्ड किया जा रहा है. खास तौर पर उन राज्यों में जहां चुनाव हो रहे हैं. नीचे आप पढ़ सकते हैं ये मैसेज…

मोदी जी !
आप उस देश के प्रधान मंत्री हो जो देश तीन सौ साल ग़ुलाम रहा !
जिस देश को अंग्रेजो ने लूट खसोट कर ओर जातीवाद में बाट के बर्बाद कर इस देश की बाग़डोर कोंग्रेस को सोपी थी !
194 7 में देश में सुई नही बनती थी !
सारा देश राजा रजवाड़ों के झगड़ो में बटा हुआ था
देश के मात्र पचास गाँवों में बिजली थी !
पूरे राजस्थान में मात्र बीस राजाओं के महल में फ़ोन था !
किसी गाँव में नल नही थे.
पूरे देश में मात्र दस बाँध थे ! सीमाओं पे मात्र कुछ सेनिक थे ! चार विमान थे बीस टेंक थे !
देश की सीमाएँ चारो तरफ़ से खुली थी !
खजाना ख़ाली था ऐसे बदहाल में हमारा हिंदुस्तान कोंग्रेस को मिला था !
इन साठ सालों में कोंग्रेस ने हिंदुस्तान में विश्व की सबसे बड़ी ताक़त वाली सेन्य शक्ति तैयार की
हज़ारों विमान -हज़ारो टेंक -लाखों फ़ैक्ट्रीया लाखों गाँवों में बिजली
हज़ारों बाँध लाखों किलोमीटर सड़कों का निर्माण परमाणु बम
हर हाथ में फ़ोन -हर घर में मोटर साई किल वाला मजबूत देश साठ में बना कर दिया हे कोंग्रेस ने !
भारत ने पिछले ६० सालों में तरक्की भी बहुत की है और भूतपूर्व प्रधानमंत्रियों ने कई इतिहास रच दिए हैं जिसकी वजह से भारत आज एशिया की दूसरी सब से बड़ी ताकत है.
1-भारत दुनिया का सर्व श्रेष्ठ संविधान बना चुका था.
2-भारत एशियाई खेलों की मेजबानी कर चुका था.
3- भारत में भाखड़ा और रिहंद जैसे बाँध बन चुके थे.
4- देश भामा न्यूक्लियर रिसर्च सेंटर का उद्घाटन कर चुका था.
5- देश में तारापुर परमाणु बिज़ली घर शुरू हो चुका था.
6- देश में कई दर्जन AIIMS, IIT, IIMS और सैकड़ों विश्वविद्यालय खुल km चुके थे.
7- नेहरु ने नवरत्न कम्पनियाँ स्थापित कर दी थी.
8- कईसालों पहले भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों को लाहौर के अंदर तक घुसकर मारा था और लाहौर पर कब्जा कर लिया था.
9- पंडित नेहरु पुर्तगाल से जीत कर गोवा को भारत में मिला चुके थे.
10- नेहरु जी ने ISRO (Indian Space Research Organization) की शुरुआत कर दी थी.
11- भारत में श्वेत क्रांति की शुरुआत हो चुकी थी.
12- देश में उद्योगों का जाल बिछ चुका था.
13- इंदिरा जी पाकिस्तान के दो टुकड़े कर चुकी थी, पाकिस्तान १ लाख सैनिकों और कमांडरो के साथ भारत को सरेंडर कर चुका था.
14- तब भारत में बैंकों का राष्ट्रीयकरण हो चूका था.
15- इंदिरा जी ने सिक्किम को देश में जोड़ लिया था.
16- देश अनाज के बारे में आत्म निर्भर हो गया था.
17- भारत हवाई जहाज और हेलीकाप्टर बनाने लगा था.
18- राजीव गाँधी ने देश के घर घर में टीवी पहुंचा दिया था.
19- देश में सुपर कम्प्यूटर, टेलीविजन और सुचना क्रांति ( Information Technology) पूरे भारत में स्थापित हो चुका था.
20- जब मोदी प्रधान मंत्री पद की शपथ ले रहे थे तब तक भारत सर्वाधिक विदेशी मुद्रा के कोष वाले प्रथम १० राष्ट्रों में शामिल हो चुका था
21- इनके अलावा.चन्द्र यान,
22- मंगल मिशन ,
23- GSLV,
24- मेट्रो,
25- मोनो रेल,
26- अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे,
27- न्यूक्लियर पनडुब्बी,
28- ढ़ेरों मिसाइल,पृथ्वी, अग्नि, नाग
29- दर्जनों परमाणु सयंत्र,
30- चेतक हेलीकाप्टर, मिग
31- तेजस, ड्रोन, अर्जुन टैंक, धनुष तोप,
32- मिसाइल युक्त विमान,
33- आई एन एस विक्रांत
विमान वाहक पोत.
ये सब उपलब्धियां देश ने मोदी के प्रधानमंत्री बनने के पहले हासिल कर ली थी.
हर तीन ग्रूप और तीन लोगो को भेजे ता कि इन मोदीजी के जुमले और अंधभक्तो की झुठी भक्ती सबको पता चल जाये.

2 टिप्पणियाँ

  1. Bhut hi sundar bat likhe hai. Ye hi true hai.

  2. Ye hum sab bhartye ko pata hai.lekin BJP aur sanghi jo apna itihaas nahi jante wo congrea ka itihaas batane chale hain.ha aek baat hai congres me kuch aise sanghi congresi ban kar aaye aur kuch congresi bane hue hain.inse congres ka nuksaan aur desh ka bhi hai

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *