अब बाइक की हैडलाइट आपकी मर्जी से नहीं चलेगी. आ गया नया रूल

अब बाइक की हैडलाइट आपकी मर्जी से नहीं चलेगी. आ गया नया रूल




नई दिल्ली: दो महीने बाद भारत में बाइक सवार अपनी बाइक की हैडलाइट बंद नहीं कर पाएंगे. वो अपनी मर्जी से जलेगी और अपनी मर्जी से बंद होगी. जी हां 1 अप्रैल भारत में वो ही मोटरसाइकिल बिकेगी जिसमें एएचओ लगा होगा. एएचओ बोले तो ऑटो हेडलैंप ऑन यानी कि अब बाइक स्टार्ट होते ही हेडलाइट जल जाएगी और जब तक वह बंद नहीं होगी जबतक इंजन बंद नहीं होता.
स्टार्ट होते ही लाइट शुरू
इंजिन स्टातर्ट होते ही एएचओ अपने आप शुरू हो जाएगा. अभी तक यह फीचर सिर्फ कुछ हाई एंड मोटरसाइकिलों में ही था लेकिन अब दुपहिया सुरक्षा को देखते हुए सरकार ने अब यह सबके लिए अनिवार्य कर दिया गया है. कई ऐसी मोटरसाइकिल बाजार में इस नियम के लागू होने से पहले ही लांच हो चुकी हैं.
सर्विस सेंटर में मत जाना
ऐसे में अगर अब आपके आसपास से कोई मोटरसाइकिल गुजरे और उसकी लाइट जल रही हो तो उसको हाथ दिखाकर लाइट बंद करने के लिए मत कहिएगा. क्योंकि अब वो चाहकर भी आपकी बात नहीं मान पाएगा. बहुत से राइडर जानकारी न होने के अभाव में अपनी मोटरसाइकिल सर्विस सेंटर लेकर भी पहुंच रहे हैं. वहां सर्विस सेंटर वालों को भी उन्हें समझाने में काफी मेहनत करनी पड़ रही है.
डरिए मत हेडलाइट से बाइक का नुकसान नहीं होगा
देश में हर साल हजारों मोटरसाइकिल राइडर सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जान गंवाते हैं. एक रिपोर्ट में पाया गया है कि जिन देशों में यह नियम लागू है वहां पर दुपहिया वाहनों का एक्सीडेंट हमारे देश की तुलना में बेहद कम होता है. हेडलाइट जली रहने से राइडर की प्रजेंस रोड पर पूरी तरह से रहती है और सामने से आने वाले वाहनों को भी ऐसी मोटरसाइकिल दूर से ही नजर आ जाती हैं. यह एक बेहद जरूरी सुरक्षा फीचर है और इससे सड़क मोटरसाइकिल दुर्घटनाओं में शर्तियातौर पर कमी आएगी.